Subscribe Us

साइबर ठगों से सावधान! जानकारी और जागरूकता ही बचाव : हरिओम कुशवाहा

 


 असदुल्ल्लाह सिद्दीकी                   

सिद्धार्थनगर। साइबर सेल जनपद सिद्धार्थनगर द्वारा साइबर क्राईम जागरूकता अभियान के अन्तर्गत जय किसान इण्टर कालेज सकतपुर सनई के छात्र व छात्राओं को किया गया जागरूक।अमित कुमार आनन्द, पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर द्वारा साइबर क्राईम जागरूकता अभियान के संबंध में दिए गए निर्देश में सिद्धार्थ अपर पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर के पर्यवेक्षण में व नोडल अधिकारी साइबर सेल जयराम, क्षेत्राधिकारी शोहरतगढ़ व सुबाष यादव, प्रभारी साइबर सेल के नेत्तृत्व में आज जय किसान इंटर कॉलेज , सनई तिराहा नौगढ़ में साइबर सेल से उ0नि0 हरिओम कुशवाहा , मुख्य आरक्षी अतुल चौबे, आरक्षी अजय कुमार यादव, आरक्षी शिवम मौर्या व उ.नि. रतीश चंचल, आरक्षी प्रभाकर यादव थाना सिद्धार्थनगर द्वारा  निम्न बिन्दुओं पर जानाकारी साझा किया गया।

साइबर अपराध के दृष्टिगत बचाव हेतु जानाकारी साझा कर साइबर हेल्पलाइन नम्बर 1930 एवं cybercrime.gov.in पर साइबर अपराध की शिकायत दर्ज करने के सम्बन्ध में जानकारी दिया गया। साथ ही यह जानाकारी दिया गया कि सोशल साइट के माध्यम से किसी भी अंजान व्यक्ति से कोई भी निजी जानाकरी साझा न करे और किसी भी प्रकार के ईनामी, लाटरी जैसी लुभाने विज्ञापनों से सचेत रहे। किसी भी अंजान व्यक्ति के काल करने पर अपनी बैंक सम्बन्धी कोई भी निजी जानकारी शेयर न करे जैस डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड, गूगलपे/फोन पे पिन की जानकारी इत्यादि।फोन, ई-मेल , एमएमएस , whatsapp या न्यूजपेपर के माध्यम से प्राप्त नौकरी, लॉटरी, पॉलिसी, बोनस, सस्ता लोन, आदि पर भरोसा न करे। पूर्ण रूप में जानकारी प्राप्त कर ही कार्य करे । 

Facebook/Instagram/Twitter/Email/Whatsapp/JioChat/Telegram आदि सभी सोशल साइट्स एप के माध्यम की गयी बात/chat या धनराशि की मांग पर भरोसा न करे, फोन करके या मिलकर कन्फर्म अवश्य करे।महिला सशक्तिकरण जागरूकता अभियान के तहत महिलाओं को जागरूक किया गया तथा महिला सम्बन्धित अपराधों पर अंकुश लगाने हेतु वुमेन पावर हेल्पलाइन 1090 एवं महिला हेल्पलाइन 181, मुख्यमंत्री हेल्पलाइन 1076, पुलिस हेल्पलाइन 112 के बारे में जानकारी प्रदान किया गया। साइबर अपराधी आपकी निजी जानकारी इक्ट्ठा करते है और इसका उपयोग इंटरनेट पर आपकी झूठी पहचान बनाने में उपयोग कर सकते है। किसी भी सार्वजनिक साइट, ब्लॉग या सोशल मीडिया पर अपनी निजी जानकारी कभी भी साझा/शेयर न करें। जैसे कि आपकी सरकारी आईडी, पासवर्ड, बैंक खाता नम्बर, पिन इत्यादि। ईमेल, मैसेजिंग ऐप या इन्सटैंट मैसेंजर पर प्राप्त लिंक्स पर क्लिक करने से पहले सावधान रहें और यदि आप उनकी सत्यता पर विश्वास नही करते, तो हमेशा भेजने वाले या उनकी आधिकारिक हेल्पलाइन से संपर्क करें। जैसे कि बैंक, दूरसंचार ऑपरेटर, बीमा कंपनी आदि। अपने पासवर्ड को जटिल रखें ( अर्थात अक्षरों – जैसे a, b, c, संख्याओं। जैसे 1, 2, 3 और विशेष अक्षरों – जैसे @, #, % को मिलाकर पासवर्ड बनाये) और उसे किसी के साथ साझा न करें। विभिन्न साइटों/ऐप्स के लिए अलग-अलग पासवर्ड का प्रयोग करें। वेब पेज पर अपनी जानकारी दर्ज करने से पहले, वेबसाइट के लिंक की जांच करें और यह सुनिश्चित करें कि वेब पता https (“s”  से सुरक्षित) से शुरु होता है और एक बन्द ताले के निशान को भी देखें। ऑनलाइन बैंकिंग या ऑनाइन लेनदेन करने के लिए कभी भी सार्वजनिक/ मुफ्त वाईफाई का उपयोग न करें।साइबर अपराध होने पर सूचना तत्काल हेल्प लाईन नं0 1930 पर व पुलिस दें । 24 से 48 घंटे के अंतराल में आपके धन को वापस कराने की अधिक संभावना रहती है। सिम ब्लाक/एक्सपायर का संदेश प्राप्त होने पर दिये गये नम्बरों पर वार्तालाप न करें। फोन पर कैश रिवार्ड को अपने खाता में लेने के नाम पर अज्ञात व्यक्ति के बताये हुये नियमों का पालन न करें।

ओएलएक्स पर कोई भी वाहन/सामान खरीदने वाले व्यक्ति को बेंचने वाले व्यक्ति द्वारा यदि अपना कोई सरकारी आई-कार्ड/कैंटीन कार्ड डाला गया है तो उसे चेक कराने के बाद ही लेन-देन करें। अधिक सहायता हेतु साइबर क्राइम सेल सिद्धार्थनगर के मो0न0 8181818200 एवं 1930 पर सम्पर्क करें जानकारी और जागरूकता ही बचाव है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ