Subscribe Us

नमामि गंगे योजना के तहत नदियों को प्रदूषित होने से बचाव के लिए कार्य योजना बनाने के डीएम ने की बैठक

  असदुल्लाह सिद्दीकी

  सिद्धार्थनगर। नमामि गंगे योजना के तहत नदियों को प्रदूषित होने से बचाव के लिए कार्ययोजना बनाने के डीएम ने निर्देश दिये।नमामि गंगे समिति की बैठक  कलेक्ट्रेट सभागार मे जिलाधिकारी सिद्धार्थनगर संजीव रंजन ने करते हुए कहा नदियों के घाटों की सुव्यवस्थित ढंग से मरम्मत कर पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की योजना करें तैयार जिलाधिकारी ने शुक्रवार को नमामि गंगे समिति के साथ एक बैठक की। उन्होंने राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के तहत गंगा की सहायक नदियों को स्वच्छ एवं निर्मल बनाने के लिए एक ठोस कार्ययोजना बनाने का निर्देश दिये।जिसमें प्रभागीय निदेशक सिद्धार्थनगर द्वारा परियोजना निदेशक राज्य स्वच्छ मिशन लखनऊ के स्तर से नामिति गंगे के तहत मार्च 2022 से अब तक जनपद में आयोजित कार्यक्रमों पर प्रकाश डाला गया। वर्तमान में गंगा एवं उसके सहायक निदियो के किनारे बसे घाटों पर स्वच्छता पखवाडा 02 अक्टूबर 2022 को स्वच्छता अभियान तथा घाटो पर दीप प्रज्वलित करने के निर्देश प्राप्त हुये है।कार्यक्रम के तहत जिलाधिकारी की अनुमति से डुमरियागंज  तथा बांसी में रानी माेह भक्त राजे लक्ष्मी घाट पर वन विभाग द्वारा स्थानीय जन मानस एवं स्कूल कालेज के छात्रों के माध्यम से उक्त अभियान के तहत कार्यक्रम नामिति गंगे के दिशा निर्देशानुसार आयोजित किया जायेगा।                                                                                                                              वृक्षारोपण जन आन्दोलन बर्ष 2022–23 के तहत जनपद में हुये वृक्षारोपण पर प्रभागीय निदेशक द्वारा जिलाधिकारी की अनुमति से प्रकाश डालते हुए अवगत कराया गया कि जनपद में कुल 4001244 पौधो का रोपण वन विभाग तथा अन्य विभाग के सहयोग से कराया गया जिसकी जियो टैंगिग अन्य विभागो द्वारा रोपित पौधो के सापेक्ष 61.68 प्रतिशत कराया गया है। जिलधिकारी सिद्धार्थनगर द्वारा समस्त विभागो को निर्देश दिया गया कि अतिशीघ्र जियो टैंगिग कार्य पूर्ण कराये साथ ही वन विभाग को वृक्षारोपण सफलता प्रतिशत की सूचना मानक के अनुसार प्रेषित करें।बैठक में मुख्य विकास अधिकारी,अपर जिलाधिकारी,जिला विकास अधिकारी,उपायुक्त मनरेगा तथा समिति के समस्त सदस्य गण उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ