Subscribe Us

विश्व हिन्दू परिषद एवं बजरंग दल नेताओं पर ठगई करने का आरोप

मुख्यमंत्री से कार्यवाई करने की गुहार

मोहम्मद सैफ साबरी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था की सत्त की आड़ लेकर सत्तधारी ही  उड़ा रहे हैं। खुले आम मखौल जबकि  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी क़ानून व्यवस्था को लेकर सिर्फ बयान ही नहीं बल्कि अधिकारियों को अवश्यक निर्देश भी दे चुके है। मुख्यमंत्री ने साफ कहा की क़ानून से ऊपर कोई नहीं किसी के साथ अन्याय नहीं होना चाहिए। वहीं दूसरी तरफ विश्व हिन्दू परिषद के नेता द्वारा सत्ता की आड़ में लोगो से ठगई करने का मामला प्रकाश मे आया है। मालूम हो कि अखिल भारतीय ब्राह्मण संगठन महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष असीम कुमार पांडे ने अवध प्रांत के विश्व हिंदू परिषद एवं बजरंग दल के अवध प्रांत संयोजक सुनील सिंह और उनके भाई पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि सत्ताधारी पार्टी की आड़ लेकर यह दोनों भाई एक ग्रुप बना कर लोगों को ठगने का काम कर रहे हैं। लोगों को करोड़ों रुपए का चूना लगा चुके हैं। उन्होंने कहा इसकी शिकायत हम माननीय मुख्यमंत्री जी से मिलकर करेंगे। उन्होंने कहा कि ऐसे लोग सरकार और पार्टी को बदनाम करने का काम कर रहे हैं। और इनके विरुद्ध जल्द से जल्द कार्रवाई नहीं गई तो यह सरकार और पार्टी को कहीं का नहीं  छोड़ेंगे। महासंघ,अध्यक्ष असीम कुमार पांडे ने अवध प्रांत के विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल के अवध प्रांत के संयोजक सुनील सिंह और उनके भाई पर कथित घोटाले का गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने कहा है कि दोनों ने मिलकर सैकड़ों लोगों के साथ ठगी की है। और करोड़ों रुपए लोगों का गबन किया हैं। इस संबंध में सम्बंधित अधिकारियों एवं मुख्यमंत्री से भी शिकायत की गई है। उन्होंने कहा कि दोनों भाई मिलकर नकली कागज़ों के जरिए जमीन से लेकर अन्य घोटाले कर रहे हैं।

    लेकिन अभी तक उनके पर कोई कार्यवाही नहीं हुई जबकि बलरामपुर थाना कोतवाली में 3 आदमियों के खिलाफ एफ आई आर दर्ज है। लेकिन पुलिस ने अभी तक कोई गिरफ्तारी नहीं की है। जबकि लखनऊ के थाना विभूतिखंड को भी इनकी जांच मिली है। लेकिन इनकी दबंगई के चलते इनके खिलाफ कोई भी कार्यवाई करने से डरता है। जबकि इनके खिलाफ धोखाधड़ी एवं फर्जी दस्तावेज बनाकर नौकरी दिलाने के लिए शिकायतें दर्ज हैं। यह पूरे ग्रुप के साथ घटना को बहुत शातिरना अंदाज से अंजाम देते हैं। बड़ी संख्या में लोगों के साथ धोखाधड़ी कर करोड़ों रुपए का घोटाला कर चुके हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ