Subscribe Us

ट्रैफिक पुलिस की सतर्कता से टप्पेबाजों का शिकार होने से बची महिला

   जावेद शाकिब 

  लखनऊ। मायके से लौट रही महिला ट्रैफिक पुलिस की सतर्कता से टप्पेबाजों का शिकार होने से बच गई। टप्पेबाजी में लिप्त दो महिलाओ को पकड़कर ट्रैफिक पुलिस कर्मियों ने गुडंबा पुलिस के हवाले कर दिया है। गुडंबा पुलिस दोनों टप्पेबाज महिलाओ को सलाखों के पीछे भेज आगे की कार्यवाही में जुट गई है। फिलहाल पीड़ित महिला की तरफ से गुडंबा पुलिस को कोई तहरीर नहीं दी गई है।

अपने मायके से लौट रहीं थी महिला

   लखनऊ निवासी रेनू वर्मा किसी मांगलिक कार्यक्रम में शामिल होने अपने मायके बाराबंकी गई हुई थी। आज दोपहर वो अपने मायके से लौटते समय पॉलिटेक्निक चौराहे से जब ऑटो में बैठी तो वही से चार अन्य महिलाएं भी ऑटो में बैठ गई। दो महिलाएं तो रास्ते में ही उतर गई। लेकिन टप्पेबाज महिलाएं मौके की तलाश में ऑटो में ही बैठी रही। टेढ़ी पुलिया चौराहे पर ऑटो से उतरते समय रेनू को आभास हुआ कि उनका पर्स गायब है जिसमे उनके सोने के जेवर व नगदी थी। उन्होंने तुरंत अपने पति को फोन पर इसकी जानकारी देने के साथ ही वही मौजूद ट्रैफिक पुलिस से मदद मांगी। जिसके बाद टी एस आई पंकज कुमार, मनीराम व कांस्टेबल संजय कुमार यादव ने अन्य ट्रैफिक पुलिस कर्मियों के साथ मिलकर भाग रही महिलाओ को पकड़ लिया। इसके बाद गुडंबा पुलिस को सूचना दी गई। गुडंबा पुलिस की महिला पुलिस कर्मियों ने जब  टप्पेबाज महिलाओ की तलाशी ली तो टप्पेबाज महिलाओ से जेवर व नगदी बरामद हो गई। पुलिस ने दोनों महिलाओ को गिरफ्तार कर लिया है।  

पर्स में 80 हजार के जेवर व नेग में मिली नगदी थी

  पीड़ित रेनू वर्मा ने बताया की मेरी पर्स में लगभग 80 हजार के सोने के जेवर व नेग में मायके से मिले कुछ नगद रुपए थे। जब टेढ़ी पुलिया चौराहे पर उतरना हुआ और टैक्सी वालों को पैसे देने के लिए पैसे देखने लगी तब पैसे वहां पर नहीं थे तभी रेनू को शक हुआ और जेवरात चेक करने लगी तब बैग में जेवर भी नहीं मिला जबकि रेनू वर्मा के पति टेढ़ी पुलिया चौराहा पर लेने आ रहे थे। फोन पर बात हुई थी पूरी दास्तान अपने पति को भी बताइ और ऑटो को रुकवा लिया जिसमें दो महिलाएं बैठी हुई थी, जिसके उपरांत महिलाओं से रेनू वर्मा ने पैसा चोरी होने की बात की तो वह महिलाएं भागने लगी तभी  टेढ़ी पुलिया पर तैनात ट्रैफिक पुलिस कर्मी पंकज कुमार को बताई पंकज कुमार व उनके साथियों ने दौड़ा कर टप्पेबाजों को पकड़ लिया। थाना गुडंबा की पुलिस को बुला कर दोनों महिलाओं को पुलिस के हवाले कर दिया। महिलाओ के पास से पूरा सामान बरामद हो गया।

इससे पहले भी इस रूट पर यात्रियों से हो चुकी है कई वारदाते

   आपको बता दे कि लगभग 6 साल पहले भी कुछ महिलाओ ने एक समाचार पत्र के संपादक की पत्नी के साथ ऐसी ही हरकत को अंजाम देने की कोशिश की थी पर उनकी सूझबूझ की वजह से उनका सामान चोरी होने से बच गया था।   तब वहां मौजूद लोगो ने टप्पेबाज महिलाओ को डांट फटकार कर वहां से भगा दिया था। ऐसा ही एक मामला मड़ियांव निवासी आफताब के साथ हुआ था जब वो टेढ़ी पुलिया पर टेम्पो से उतरने के बाद अपनी शर्ट की पॉकेट से पैसे निकाल रहे थे तो वही बैठे एक टप्पेबाज ने उनसे पैसे छीन कर भागने की कोशिश की थी लेकिन वो पैसे छोड़ वहा से भागने में कामयाब हो गया था।

कब लगेगी टप्पेबाजी पर लगाम

लखनऊ कमिश्नरेट पुलिस अपराधियों पर लगाम लगाने चाहे जितना दावा करती हो लेकिन इस तरह की घटनाओं से लोगो को आए दिन दो चार होना पड़ता है। पुलिस की लाख कोशिश के बावजूद भी क्षेत्र में ऐसे अपराध थामने का नाम नहीं ले रहे हैं। 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ