Subscribe Us

बिजली की समस्या और पूरी रात स्ट्रीट व घर की लाइट का जलना


सर्वशक्तिमान ईश्वर फरमाता है कि "हमने रात को पर्दा बनाया"(सूरह नबा आयत नंबर 10)

      यहां पर अल्लाह ताला फरमाता है कि हमने रात को आराम के लिए बनाया है इस लिए रात को पर्दा बनाया है। जिससे हर चीज एक दूसरे से छुप जाती है और इंसान का सम्बन्ध रात के अंधेरे में सब से टूट जाता है।

      अगर रात में इतनी रोशनी हो कि हर चीज दिन की तरह दिखाई देती है तो इसका अर्थ यह हुआ कि अभी भी दिन वाली विशेषता रात में बाकी है। यानी इंसान इंसान को देख सकता है तो उसे फायदा नहीं पहुंच सकता जो इंसानों का रब पहुंचाना चाहता है। कि इंसान रात में आराम करें। जब पर्दा ही नहीं हुआ तो उसका मामला सारा के सारा एक दूसरे से जुड़ा रहता है। इसलिए रात में उसको अच्छी नींद नहीं आती है। और पूरी रात बेचैनी उलझन में गुजरती है। नतीजा यह होता है कि उसकी सेहत ठीक नहीं रहती है। वह अपने को मरीज जैसा महसूस करता है। और अगर इस पर अमल हो तो उसे लाभ पहुंचेगा, यही वजह है कि सोने के आदाब में रोशनी को बंद करके, चिराग को बंद करके, लाइट को ऑफ करके सोने को बताया जाता है।

      कुरान की आयत का मतलब है की इंसानों का रब फरमाता है "हमने रात को पर्दा बनाया"अर्थात अब कोई चीज नहीं दिखनी चाहिए।

      लेकिन आज के वक्त में हमारे घरों में और बाहर गली में स्ट्रीट लाइट पूरी रात जलती रहती है। जिससे पूरी तरह पर्दा कायम नहीं हो पाता है। और नतीजा या होता है की इंसान रात में ठीक से सो नहीं पाता है। जबकि सर्व शक्तिमान ईश्वर ने फरमाया कि "हमने तुम्हारी नींद को तुम्हारे आराम का जरिया बनाया" जब रात को हम आराम नहीं कर पाएंगे तो फिर हमारी सेहत कहां ठीक रहेगी। इसलिए स्ट्रीट लाइट रात में 9:00 या 10:00 बजे से बंद हो जानी चाहिए। जिससे बस्ती के लोगों को स्वास्थ्य बनाया जा सके और बिजली बचाई जा सके।

      इससे समाज के लोगों को तथा इंसानों की सेहत को बहुत लाभ होगा और जिस बिजली की कमी से हमारा शहर,हमारा प्रदेश ,हमारा देश जूझ रहा है उसे भी लाभ होगा । इस प्रकार जो लाइट हम बचाएंगे उसको दिन में देहात क्षेत्र में पहुंचा कर बिजली से होने वाले कार्य को पूरा किया जा सकता है। यदि बिजली का सदुउपयोग किया जाए तो आज बिजली आपूर्ति की समस्या से निपटा जा सकता है।

     मैं अपील करता हूं कि लोगों को अपने स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखना चाहिए और नगर पालिका तथा बिजली विभाग को भी इस पर ध्यान देना चाहिए। धन्यवाद!

लेखक : मोहम्मद मोहसिन अंसारी

बिसवा सीतापुर उत्तर प्रदेश।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ