Subscribe Us

रमजान के पवित्र महीने में गरीबों को फितरा - जकात देने वालो के लिए जरूरी एलान

बाराबंकी। सिरौलीगौसपुर क्षेत्र मदरसा हाफिजिया अनवारूल कुरान के प्रबन्धक आफताब अहमद इस्माईली रानीकटरा निवासी ने बताया है कि 3 मार्च 2022 से रमजान उल-मुबारक शुरू होने वाला है जिसमे ज्यादातर मुसलमान रोजा रखते है और अपने खुदा की इबादत, तिलावते कुरान के साथ ही साथ रात में नमाजे तरावीह पढ़ते है, अपने लिए और अपने मुल्के हिन्दुस्तान  व पूरी दुनिया के लिए दुआएं खैर करते हैं।

  इस पाक महीने में हर वो मोमिन बन्दा अपनी-अपनी जायज कमाई जैसे नगदी रूपये, सोने, चाँदी, अनाज आदि में से ढाई प्रतिशत मालियत निकालते है और हर माह से ज्यादा अफजल इबादत करने का सवाब (पुन्य) इसी महीने में मिलता है, और मुस्लिमों में खैरात देने वाला यह माह माना जाता है। रमज़ान में ही माले हैसियत के लोग ज्यादा-से ज्यादा इमदाद (भिक्षा) देते हैं, आपको बताना चाहता हूँ कि हर दिन हो या हर महीना आप किसी भी अंजान इंसान को बिना आधार कार्ड, पहचान पत्र आईडी देखे माली इमदाद न करें, क्योंकि अन्य आपात्र लोग आलिमों फक़ीरों के भेष में दाढ़ी रखकर पुरूष व नकाब पहनकर महिलाए आपके माल का ज़कात, हर जान का फितरा वसूली करने के लिए आते है वसूल कर आपका पैसा वो लोग दुरूपयोग करते है।

नोट:- अगर आप इमदाद ही करना चाहते हो तो अपने आस-पास गरीबों को खाना, कपड़ा और उनके बच्चों की तालीम (शिक्षा) दिलाने का काम करे, किसी मजबूर की बेटी के निकाह में मदद करें, किसी बीमार का इलाज करवाएं, आप बिना जाने पहचाने किसी को पैसे की इमदाद न करें। जब तक उसकी अच्छे से पहचान न कर ले.........

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ