Subscribe Us

भारी अव्यवस्था के बीच प्रारंभ होगा वासंतीक नवरात्र मेला,प्रशासनिक दावे होंगे हवा हवाई

  महेंद्र पांडे सत्य स्वरूप

   मिर्जापुर। प्रशासन लाख दावा कर ले नवरात्रि मेला व्यवस्था को लेकर लेकिन ठीक उसके विपरीत भारी अव्यवस्था के बीच नवरात्र मेला प्रारंभ हो रहा है। मुख्य मार्ग से लेकर विंध्याचल की गलियां, पूर्वांचल को जोड़ने वाला सड़क, गंगा घाटों की ओर जाने वाले मार्ग, मंदिर के आसपास और गंगा घाट पर व्यवस्था के नाम पर तमाम खामियां दिखाई दे रही हैं, पूरे विंध्याचल परी क्षेत्र में भीषण रूप से गंदगी फैली हुई है, प्रकाश व्यवस्था संतोषजनक नहीं है, हां गैर जनपदों से पुलिस की भारी खेप आ चुकी है। प्रशासन तमाम व्यवस्था का दावा कर रहा है, लेकिन ठीक उसके विपरीत अव्यवस्था दिखाई दे रहा है। विंध्यवासिनी मंदिर के तीन दिशा में बेरी कटिंग, और मेटल डिटेकटर लगाकर चेकिंग करने का पॉइंट बनाया गया है, विंध्य कॉरिडोर के तहत गलियों और मार्ग अस्त व्यस्त है, देवी भक्तों के पैरों में निकोले पत्थर चुभेंगे, मंदिर के सामने तंबू कनात लगाकर, व्यवस्था को मूर्त रूप दिया गया है, भीषण गर्मी और धूप में तीर्थयात्री गंगा स्नान करेंगे, मार्ग  में मैट बिछाने की कवायद अभी चलती रही, त्रिकोण क्षेत्र में प्रकाश की व्यवस्था और पर्याप्त है जंगली रास्ता होने के कारण से, प्रकाश की समुचित व्यवस्था होने की आवश्यकता थी, प्रशासनिक अधिकारी मेला व्यवस्था को लेकर मैराथन दौड़ पिछले कई दिनों से लगा रहे हैं, लेकिन कोतवाली गली, न्यू वीआईपी, पुरानी वीआईपी, पक्का घाट मार्ग, तीर्थ यात्रियों के लिए कष्टदायक साबित होंगे, मसलन रास्ते में निकोले पत्थर यात्रियों के पैरों में जुभेगे, विंध्याचल के नवरात्र मेले का प्रांतिक करण हो गया है के बावजूद शासन स्तर पर व्यवस्था को मूर्त रूप नहीं दिया जाता है, स्थानीय प्रशासन, और नगर पालिका के सहयोग से मेला को संपन्न कराया जाता है। पूरे मेला क्षेत्र में पेयजल संकट बना रहेगा। भीषण गंदगी अभी से दिखाई दे रही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ