Subscribe Us

बाराबंकी : विरोधियों को फसाने के लिए रच डाली भाई के मर्डर की साजिश

भाई भतीजा सहित पुलिस ने आठ को गिरफ्तार कर किया हत्या का सनसनीखेज खुलासा

जावेद शाकिब सत्य स्वरूप

   बाराबंकी। विरोधियों को फसाने के लिए एक भाई ने अपने भतीजे के साथ मिलकर सगे भाई की हत्या को अंजाम दे डाला। पुलिस ने हत्या में शामिल आठ आरोपियों को गिरफ्तार कर यमुना प्रसाद हत्या का सनसनीखेज खुलासा किया है।

    ग्राम मालिनपुर थाना दरियाबाद निवासी रघुराज पुत्र स्व0 रामचेले ने अपने छोटे भाई जमुना प्रसाद की गायब होने के सम्बन्ध में थाना दरियाबाद पर गुमशुदगी दर्ज करायी।18 फरवरी को रघुराज ने थाना दरियाबाद पर तहरीर दी कि उसके छोटे भाई जमुना प्रसाद का अपहरण साथियों संग दुर्गेश कुमार द्वारा कर लिया गया है। इसके आधार पर थाना दरियाबाद पर अपहरण की धारा 364 के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया और 20 फरवरी को जमुना प्रसाद का शव गांव रहिमापुर स्थित खेत में मिला। 

   घटना से सम्बन्धित साक्ष्यों को एकत्रित कर हत्या में संलिप्त अभियुक्तों की गिरफ्तारी करने हेतु पुलिस टीमों का गठन किया गया था। घटना स्थल का फोरेंसिक टीम व डॉग स्क्वाड टीम द्वारा निरीक्षण कर मौके से वैज्ञानिक साक्ष्य एकत्रित किया गया। गठित पुलिस टीम द्वारा मैनुअल इंटेलीजेंस एवं डिजिटल डेटा के आधार पर आज हत्या की घटना में संलिप्त आठ लोगो  रघुराज पुत्र रामचेले निवासी मालिनपुर, हरिबक्श उर्फ उपदेश पुत्र रघुराज निवासी मालिनपुर, राजेश पुत्र रघुराज निवासी मालिनपुर, प्रमोद कुमार पुत्र भारतराम निवासी नोहरेपुर, पूर्णमासी पुत्र माधवराम निवासी मेडई का पुरवा, मुन्ना उर्फ शुभम् पुत्र विश्राम निवासी लखनिया क्यामपुर ,मनीष कुमार उर्फ मल्ले पुत्र केशनलाल निवासी मदारपुर मजरे अवशेरगढ़, कोयला उर्फ संजू पत्नी मनीष कुमार उर्फ मल्ले निवासी मदारपुर मजरे अवशेरगढ़ थाना दरियाबाद बाराबंकी को गिरफ्तार किया गया। अभियुक्त के कब्जे व निशांदेही से आलाकत्ल ईट का अद्धा, तेजाब बोतल, कपड़े, मृतक का आधार कार्ड बरामद किया गया। 

       पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स ने बताया कि रघुराज अपने विरोधी दुर्गेश कुमार को फंसाने के लिए अपने भाई जमुना प्रसाद को गायब कर अपनी ही भतीजी ग्राम मदारपुर मजरे अवशेरगढ़ के यहां छुपा दिया था और इस सम्बन्ध में विरोधियों के विरूद्ध अपहरण का अभियोग पंजीकृत कराया। जब लगभग एक सप्ताह हो गया तो जमुना प्रसाद द्वारा घर जाने एवं पुलिस को सारी बातें बताने के सम्बन्ध में कहा गया। इस पर अभियुक्त रघुराज ने अपने भतीजे व अन्य साथियों के साथ जमुना प्रसाद की 18 फरवरी को हत्या कर दी थी। शव पहचान में न आये इसलिए तेजाब से चेहरे को जला दिया तथा बाल पुरवा नहर के पास जंगल में छिपा दिया, इसके बाद दूसरे दिन शव को वहां से लाकर  ग्राम रहिमापुर स्थित खेत में डाल दिया।

आरोपियों को गिरफ्तार करने वाली पुलिस टीम में स्वाट/सर्विलांस टीम के प्रभारी निरीक्षक श्री अनिल कुमार पाण्डेय,उ0नि0श्री करूणेश पाण्डेय, उ0नि0 श्री परमानन्द पाण्डेय, उ0नि0 श्री बीके सिंह, उ0नि0 श्री असलमुद्दीन,उ0नि0 श्री विजय बहादुर पाण्डेय , हे0का0 मजहर अहमद, का0 प्रवीन शुक्ला,का0 धर्मेंद्र कुमार, हे0का0 शैलेन्द्र सिंह, हे0का0तनवीर अहमद, हे0का0अभिमन्यु सिंह, हे0का0 आदिल हाशमी, हे0का0 अरविन्द सिंह, हे0का0 इदरीश, आ0चा0 सुभान अंसारी,हे0का0 जितेन्द्र वर्मा, का0 जुबेर अहमद, का0 दिव्यांश, का0 अनुज कुमार व थाना दरियाबाद के थानाध्यक्ष श्री दुर्गा प्रसाद शुक्ला, उ0नि0 श्री सुरेशचन्द्र मिश्र, उ0नि0 अजय कुमार पाण्डेय, हे0का0 सुरेन्द्र प्रताप सिंह, हे0का0 अब्दुल हमीद, का0 दीपक काकरान, का0 गौरव शुक्ला, का0 सतीश कुमार, म0का0 पूजा राजपूत शामिल रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ