Subscribe Us

होली का पर्व आपसी मनमुटाव को भुलाकर प्रेम का सन्देश देता है : उपेन्द्र रावत

  सगीर अमान उल्लाह

   बाराबंकी। फतेहपुर होलिकोत्सव समिति की भजन सन्ध्या में खेली गयी फूलों की होली मनमोहक झांकियां बनी आकर्षण का केन्द्र, भजन गायक पंकज निगम ने बिखेरा अपने भजनों का जादू।
  इस तरह के आयोजन समाज में आपसी सौहार्द को मजबूत करते हैं होली का पर्व आपसी मनमुटाव को भुलाकर प्रेम का सन्देश देने के साथ साथ इस बात को भी सार्थक करता है कि जीत हमेशा सत्य की होती है यह विचार नगर के पूर्व माध्यमिक विद्यालय में बुद्धवार की रात्रि में होलिकोत्सव समिति द्वारा आयोजित होली मिलन समारोह एवं भजन सन्ध्या कार्यक्रम में सांसद उपेन्द्र सिंह रावत ने व्यक्त किये उन्होंने उपस्थित धर्म प्रेमियों को होली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि ऐसे कार्यक्रम निरन्तर होते रहने चाहिए।

   भजन सन्ध्या का शुभारम्भ गोरखपुर से आये नीलेश भटट ने गौरा के गणेश प्यारे-प्यारे से की इसके बाद प्रख्यात भजन गायक पंकज निगम के सुमधुर भजनों रामजी  मेरा दिल ये कहे खाटू में बस जाना, तेरी गोद में गोकुल है, बाहां में है बरसाना सुनाकर धर्मप्रेमियों को मन्त्रमुग्ध कर दिया अयोध्या की अंजली मौर्य के भजन जब बाबा का हो सिर पर हाथ तो जमाने की ऐसी की तैसी को भी खूब सराहा गया। भजन सन्ध्या के दौरान उत्तराखण्ड के शिवम राज गु्रप ने बजरंगबली, श्री राधा-कृष्ण, शिव तांडव की मनमोहक झांकियां का प्रदर्शन कर भक्तों को झूमने पर मजबूर कर दिया। भजन सन्ध्या का मुख्य आकर्षण श्री राधा-कृष्ण के साथ खेली गयी सवा कुन्टल फूलों के होली जिसने युवाओं को थिरकने पर मजबूर कर दिया।  देर रात तक चले इस कार्यक्रम में धर्मप्रेमी भक्तिरस से सराबोर रहे।  इससे पूर्व सांसद ने द्वीप प्रज्ज्वलित कर भजन सन्ध्या का शुभारम्भ किया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ