Subscribe Us

आउटसोर्सिंग से आए स्वास्थ्य कर्मियों को 3 माह से वेतन मिला नहीं - मिला अनुबंध खत्म का आदेश

रिपोर्ट : शमशाद अली

करोना काल में वर्ष 2021में हजारो रुपये लेकर कार्यदायी एजेंसी के बिचौलियो ने 25 से 50 हजार रुपये लेकर स्वास्थ्य कर्मियों की करायी थी 1 वर्ष की नियुक्ति,  अब नहीं उठ रहे किसी के फोन 

जनवरी 2022 में पुनः नवीनीकरण के नाम पर भी लिए गए 25 -25 हजार रुपये

सरोजनीनगर लखनऊ। विगत 2 वर्षों से कोविड-19 महामारी  के संकट से जूझ रहे पूरे देश की व्यवस्था जहां अस्त-व्यस्त हो गई हजारों लोगों की मृत्यु हुई करोड़ो लोग भुखमरी के कगार पर आ गए । जहां देश व प्रदेश की सरकारों ने गरीब जनता को मुफ्त राशन मुहैया कराया । हजारों स्वयंसेवी संस्थाओं ने भी इस महामारी के दौर में अपनी यथाशक्ति से देश व प्रदेश की जनता के सहयोग में लगे रहे । वहीं हजारों ऐसे लोग भी रहे जो सिर्फ और सिर्फ आपदा में अवसर तलाशते रहे । शायद इसी कड़ी में स्वास्थ्य विभाग भी पीछे नहीं रहना चाहता । कोविड-19 में स्वास्थ्य कर्मियों की कमी के चलते स्वास्थ्य विभाग द्वारा आउटसोर्सिंग माध्यम से वंशिका और अगर नामक आउटसोर्सिंग एजेंसी के माध्यम से स्टाफ नर्स, फार्मेसिस्ट, पैरामेडिकल, लैब टेक्नीशियन, वार्ड ब्वाय,आया, स्वीपर इत्यादि पदो पर 25 हजार रुपये से  50 हजार रुपए तक लेकर 18 हजार रुपये मासिक वेतनमान पर 1 वर्ष के लिए माह अप्रैल, मई 2021 में कर्मियों की नियुक्तियां की गयी।सीएचसी सरोजिनी नगर में भी आधा दर्जन से अधिक ऐसे कर्मियों की नियुक्तियां हुई । नाम न छापने की शर्त पर स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा बताया गया एक वर्ष का अनुबंध होने के बावजूद हम लोगो को माह नवंबर से अभी तक वेतन का भुगतान नही किया गया । हम लोग 3 माह से वेतन का भुगतान न होने से बहुत ही आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं । इसके साथ ही जनवरी 2022 में हम लोगों से पुनः नवीनीकरण के नाम पर 25 25-25हजार रुपये लिए गए । हम लोगों को माह नवंबर 2021 से 3- 4 माह का वेतन भी नहीं मिला और चिकित्सा अधीक्षक सरोजनी नगर द्वारा मुख्य चिकित्सा अधिकारी द्वारा जारी आदेश के क्रम में 5 मार्च 2022 को पत्र जारी कर हम लोगों को कार्यमुक्त होने का आदेश भी जारी कर दिया गया और यह भी बताया गया कि आप लोग अपनी कार्यदाई संस्थाओं को सूचित करें । होली का त्यौहार भी आ गया है जहां पूरा प्रदेश होली के त्योहार की खुशियां मनाने की तैयारी कर रहा है । वही हम लोगों को 1 वर्ष के लिये पुनः नवीनीकरण होने व 3 से 4 माह का वेतन बकाया होने के साथ ही सेवाएं समाप्त होने का आदेश अति दुष्कर व अत्यंत पीड़ा दायक है ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ