Subscribe Us

मुस्कुराइए आप लखनऊ में है.... और यहाँ की पुलिस है नशे में चूर, स्मैक की चुस्की लेते पुलिसकर्मी का वीडियो वायरल, महकमा शर्मसार

पुलिसकर्मी की करतूत से लगा खाकी के दामन पर दाग, कमिश्नरेट पुलिस ने लिया संज्ञान, स्मैकिया पुलिसकर्मी सस्पेंड

अपराध संवाददाता

लखनऊ। कुछ वर्ष पहले ही देश मे अपना परचम लहराने वाले टॉप तीन थानों में लखनऊ के उत्तरी ज़ोन के गुडंबा का नाम भी था। इस उपलब्धि के बाद अधिकारियों ने गुडंबा के तत्कालीन स्टाफ व प्रभारी निरीक्षक रामसूरत सोनकर को शाबासी देते हुए इस मुकाम को  पाने के लिए शुभकामनाएं दी थी।  इसके साथ ही यह लखनऊ पुलिस के लिए गौरव का वक्त था। लेकिन इसी गुडंबा थाने के कुछ दागी पुलिसकर्मी है जो उत्तरी ज़ोन के गुडंबा थाने की फजीहत कराने में कोई कसर नही छोड़ते। ऐसे दागी पुलिसकर्मियों के खाकी पर एक दाग लगाने से पूरा महकमा ही कलंकित हो जाता है।  अब गुडंबा थाने में ही तैनात एक पुकिसकर्मी की करतूत का एक वीडियो वायरल हुआ है जिसने फिर एक बार खाकी के दामन को मैला कर दिया है। दरसल गुडंबा थाने में ही  हरिद्वार मिश्रा नामक पुलिसकर्मी की पोस्टिंग है। हरिद्वार मिश्रा के लिए बताया जाता है कि वह शराब व स्मैक के नशे के आदी है और इसके लिए वह कोई जगह आम और कोई खास नही समझते। अब हरिद्वार  का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद गुडंबा पुलिस सवालो के घेरे में खड़ी हो गई है। हरिद्वार का जो वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा उसमे वह वर्दी में  ही स्मैक पीते हुए नजर आ रहे हैं। वायरल वीडियो में हरिद्वार माचिस की लौ से स्मैक की खुराक बना रहे हैं और चाय की चुस्की की तरह स्मैक के मजे ले रहे हैं।  इस वीडियो के वायरल होने के बाद से ही सोशल मीडिया पर गुडंबा पुलिस को लेकर ट्रोलिंग शुरू हो गई है। अलग अलग प्रतिक्रियाएँ  करतूत पर लोग कर रहे हैं और कमिश्नरेट पुलिस से सवाल माँग रहे हैं। हालाँकि वायरल वीडियो से हुई फजीहत के बाद कमिश्नरेट पुलिस ने संज्ञान लेते हुए स्मैक पीते पुलिसकर्मी को सस्पेंड कर दिया है जिसकी पुष्टि एडीसीपी प्राची सिंह ने की है। 

नशे के लिए कई साथी कर्मियों से लिया है कर्जा

वीडियो वायरल होने के बाद न केवल गुडंबा बल्कि कमिश्नरेट पुलिस के तमाम थानों में स्मैकिया हरिद्वार को लेकर चर्चाओं का माहौल बना हुआ है। कुछ पुलिस सूत्रों की माने तो हरिद्वार नशे का बहुत बड़ा लति है और अक्सर ही नशे में रहता है। वह नशे का इतना बड़ा एडिक्ट है कि उसने नशे का शौक पूरा करने के लिए आधा दर्जन से ज्यादा पुलिस कर्मियों से या तो कर्ज के रूप में या उधार के तौर पर पैसे लिए हुए हैं।

अफसरों की छूट से दागियों को मिलती सह, हौसलों होते बुलंद

भले सोशल मीडिया पर स्मैक पीते पुलिस कर्मी का वीडियो वायरल होने के बाद उसे सस्पेंड कर दिया गया हो लेकिन अक्सर ऐसा नही होता। ज्यादातर मामलों में जब पुलिस पर सवाल उठते हैं तो अधिकारी ही ऐसे दागी पुलिस कर्मियों की कारगुजारियों को दबाकर उनकी करतूत पर पर्दा डालने का काम करते हैं। इसका नतीजा ही है कि ऐसे दागियों के हौसले बुलंद होते हैं और खाकी के दामन को वो दाग की चौखट पर पहुँचा देते हैं। बात गुडंबा की ही करे तो हाल में ही कुर्सी रोड चार नंबर पर लगने वाली सब्जी मंडी के चौकीदार ने छुइयापुरवा चौकी इंचार्ज पर अवैध वसूली का आरोप लगाया था। इसकी शिकायत उसने एडीसीपी से की थी, इसी दौरान उसने भी लगभग एक महीने पहले मंडी में रात में खड़े होने वाले ठेलों से कीवी फल चुराते हुए पुलिस कर्मियों का लगभग एक महीने पहले का वीडियो भी एडीसीपी प्राची सिंह को सौंपा था। एडीसीपी ने पटरी दुकानदारों को यह आश्वासन दिया कि कोई वसूली करे तो न दे और सीधे संपर्क करें। यह आश्वासन देकर एडीसीपी ने पटरी दुकानदारों को चलता किया था। वही ठेलों से पुलिस कर्मियों द्वारा कीवी फल चुराने की फुटेज पर एडीसीपी प्राची सिंह ने जाँच कर कार्रवाई की बात कही थी लेकिन बाद उनकी जाँच कहाँ किस कोने में जाकर दब गई पता ही नही चला।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ