Subscribe Us

कुर्सी विधानसभा में सपा के लिए बेहतर उम्मीदवार साबित हो सकते है चौधरी उबैद

   संवाददाता

    बाराबंकी। पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी से बुरी तरह हारने के बाद सपा एक बार फिर मजबूत इरादों के साथ खड़ी हो चुकी है। इसका सबसे बड़ा कारण उसका जमीनी स्तर का कार्यकर्ता है। पार्टी अपने कार्यकर्ताओं के दाम पर ही उत्तर प्रदेश में सरकार बनाने की सबसे मजबूत दावेदार है। पार्टी का जुझारू कार्यकर्ता ही एक बार फिर अखिलेश को मुख्यमंत्री बनाने को आतुर है।

    जनपद बाराबंकी की कुर्सी विधानसभा में एक ऐसा ही कार्यकर्ता पिछले कई महीनों से अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाने की मुहिम को लेकर जुटा हुआ है। उसकी मेहनत का ही नतीजा है कि यहाँ पर सपा एक बार फिर मजबूत हो गयी है और जीत की तरफ अग्रसर है। हम बात कर रहे है विधानसभा के मझगवां शरीफ से ताल्लुक रखने वाले सपा नेता चौधरी उबैद की। उन्होंने अपनी मेहनत से यहाँ पर हजारों की तादाद में लोगो को समाजवादी पार्टी से जोड़ दिया है जिसका फायदा पार्टी को चुनाव के दौरान मिलेगा।

  चुनाव की तारीखों का एलान होने से पहले श्री उबैद कुर्सी विधानसभा में ताबड़तोड़ जनसभाएं कर रहे थे लेकिन कोविड के बढ़ते मामलों को लेकर चुनाव आयोग द्वारा जारी गाइडलाइंस का पालन करते हुए सपा नेता व कुर्सी विधानसभा से टिकेट की दावेदारी कर रहे चौधरी उबैद जनसभा न करके घर घर जाकर सपा के लिए वोट मांग रहे हैं। हर रोज विधानसभा क्षेत्र के किसी न किसी क्षेत्र में अपनी टीम के साथ पहुंचकर लोगो से पिछली सपा सरकार की उपलब्धियों को बताकर अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाने की लोगो से अपील कर रहे हैं।

     आप को बता दे कि श्री उबैद लगभग पिछले छः महीनो से निरंतर कुर्सी विधानसभा क्षेत्र में मेहनत कर रहे हैं। क्षेत्र का कोई ऐसा गाँव उनसे नही छुटा है जहाँ पर वो सपा के प्रचार के लिए न गए हों। लोगो के दुख दर्द में शामिल होकर उनकी भरपूर मदद भी की है। यही कारण है कि क्षेत्रीय जनता उनपर विश्वास कर उन्हें अपना भावी विधायक मान रही है। इन्हें जनता का अपार समर्थन मिल रहा है। पक्ष और विपक्ष के नेता भी उनकी मेहनत के कायल हो चुके हैं।

  

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ