Subscribe Us

विधानसभा चुनाव : कम नही हो रही सत्ता के गलियारों के बीच की सियासी हलचल, अब चाचा से मिलने पहुँचे अखिलेश

विस 2021 से पहले शिवपाल और अखिलेश की मुलाकात, आख़िर किस ओर है इशारा

जावेद शाकिब

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव गुरुवार को शाम करीब साढ़े तीन बजे अचानक अपने चाचा शिवपाल यादव से मिलने उनके घर पहुंच गए। चाचा और भतीजे के बीच लंबे समय बाद उनके घर में यह मुलाकात हो रही है। इस मुलाकात की जानकारी सियासी गलियारे में आते ही यूपी की राजनीति में हलचल तेज हो गई है। पिछले कई महीनों से चाचा शिवपाल और उनके भतीजे अखिलेश यादव के मन में एक दूसरे के प्रति नरमी और श्रद्धा भाव देखा जा रहा था। ऐसे में लंबे समय से यह कयास लगाए जा रहे थे कि यूपी विधानसभा चुनाव 2022 से पहले ही चाचा और भतीजे फिर से एक हो सकते हैं। शिवपाल सिंह यादव ने गुरुवार को प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के नगर व जिलाध्यक्षों की बैठक बुलाई थी। इस बैठक के बाद ही अखिलेश यादव शिवपाल के आवास पहुंचे। काफी दिनों से दोनों दलों के एक होने की चर्चा चल रहीं थीं। ऐसे में अखिलेश का शिवपाल के आवास जाना, दोनों के एक होने के संकेत दे रहा है। शिवपाल और अखिलेश की मुलाकात करीब 20 मिनट तक चली और उसके बाद अखिलेश निकल गए। उन्होंने इस दौरान मीडिया से कोई बातचीत नहीं की। यह भी बताया जा रहा है कि सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव पहले से ही शिवपाल के आवास पर मौजूद थे।

मुलाकात के बाद हो सकता है गठबंधन

इस दौरान शिवपाल यादव के घर के बाहर दोनों नेताओं के समर्थकों की भीड़ भी जमा हो गई और दोनों की एकता के नारे लगाने लगे। इस मुलाकात के बाद अब माना जा रहा है कि सपा और प्रसपा के बीच गठबंधन हो सकता है। शिवपाल यादव इससे पहले मीडिया में कई बार यह बयान देते रहे हैं कि अखिलेश को जो फैसला करना है वह जल्दी करें। वहीं, दूसरी तरफ अखिलेश यादव यह कहते रहे थे कि समय आने पर मुलाकात और बातचीत हो जाएगी। आखिरकार वह गुरुवार को अपने चाचा शिवपाल के पास पहुंच गए। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव जब मुख्यमंत्री थे उसी दौरान ही चाचा और भतीजे की राह अलग हो गई थी। इसके बाद शिवपाल यादव ने अपनी अलग पार्टी बना ली थी। अखिलेश यादव और शिवपाल यादव की पार्टी अभी तक अकेले चुनाव लड़ रही थी। इस बार दोनों ने फिर से एक होने के संकेत दिए हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ