Subscribe Us

गंदगी व बीमारियों को हम कहेंगे बाय बाय...क्योंकि बीएमएसएस है हमारे साथ और हम है उनके संग

   हर रविवार गंदगी पर वार का जारी है सफर, आठ हफ्ते हुए पूरे आगी भी जारी रहेगा सफर

 निखिल बाजपेई.....

लखनऊ। " मैं चला था जानिब ए मंजिल मगर लोग मिलते गए और कारवाँ बन गया " जी ये शब्द यकीनन जब किसी ने कहे होंगे तब उसके जहन में शहर की यह संस्था जरूर आयी होगी जिसका परिचय हम आप से आप के इस लेख में हम कराने वाले हैं। राजधानी लखनऊ समेत समूचा विश्व जहां इस नए कोविड वेरियंट को लेकर फिक्र मैं है, खुद यूपी सरकार ने रात्रि कर्फ्यू तक प्रभावी रूप से लागू कर दिया है तो इसी बीच लखनऊ के फैजुल्लागंज इलाके की एक जागरूक व अपेक्षा से अधिक जाकर जनसेवा में अपना जीवन व्यतीत करने वाली सामाजिक कार्यकर्ता ममता त्रिपाठी एक नजीर बनकर सामने आ रही है। बात महज ममता तक ही नही बल्कि उनके द्वारा संचालित बाल महिला सेवा संगठन के हर पदाधिकारी में यह समाजसेवा का  भाव हमेशा से ममता के आँचल में पनपता नजर आता है। बात ममता त्रिपाठी के जीवनसाथी संतोष की हो या फिर जल्द में महामंत्री पद का अतिरिक्त प्रभार संभालने वाली आशा मौर्या की, बात यदि बीएमएसएस के संगठन प्रभारी की हो या संगठन से जुड़ी, मीणा, सुनीता व अन्य महिलाओं की। बाल महिला सेवा संगठन  ममता की अगुवाई में संस्था सदैव ही उत्कृष्ट कार्यो के लिए जानी जाती है और शायद इसी की देन है कि बाल महिला सेवा संगठन आज शहर में किसी का मोहताज नही है। 

चलता रहेगा सफर बस आप साथ दीजिये

दरसल बाल महिला सेवा संगठन द्वारा हर रविवार गंदगी पर वार नामक एक अभियान व्यापक रूप से फैजुल्लागंज के प्रत्येक वार्ड के कोनो कोनो तक चलाया जा रहा, इस अभियान के तहत हर रविवार को संस्था के सदस्य जहाँ खुद सफाई का जिम्मा संभालते है तो वही वह घर घर जाकर लोगो को जागरूक करने का काम भी करते है। संगठन की अध्यक्षा समाजसेविका ममता त्रिपाठी ने बात करते हुए बताया कि यह अभियान आठ महीनों से निरंतर चल रहा है। हमारे प्रतिनिधि ने जब उनसे पूछा आपका हर रविवार गंदगी पर वार  कब तक जारी रहेगा तो उन्होंने भी चुटकी भरे अंदाज में हमारे प्रतिनिधि को जवाब दिया वह शायद हमारे प्रतिनिधि के लिए भी स्तब्ध करने वाला है। ममता ने कहा कि यह अभियान तो जारी रहेगा बस आप साथ दीजिये। सामाजिक कार्यकर्ता ममता के जीवनसाथी संतोष ने बताया कि ममता महज उनकी जीवन संगिनी ही नही बल्कि आधुनिक युग मे वह एक मिशाल बन रही हैं जिनकी अलख में हम सभी ऐसे अभियानों में शामिल होकर क्षेत्र से बीमारियों को दूर रखने का अदना सा प्रयास कर रहे है।

इन इलाकों में हुई सफाई, आगे जारी है लड़ाई

संगठन के मीडिया प्रभारी मुरली प्रसाद वर्मा ने बताया कि अभी तक फैजुल्लागंज प्रथम व द्वितीय के अधिकाधिक क्षेत्रो में अभियान चलाकर साफ सफाई व जन जागरूकता की गई है। श्री वर्मा ने बताया कि सबगठं द्वारा अभी निरंतर प्रयास जारी है और हम चाहते है कि महज फैजुल्लागंज ही नही हर क्षेत्र में लोगों को जागरूक होने की आवश्यकता है ताकि हम बीमारियों को अपने व अपने परिवार से कोसो दूर रख सके। महामंत्री आशा मौर्या ने बताया कि हम संस्था के प्रत्येक कार्य के लिए हमेशा से त्तपर है और यह हमारा सौभाग्य है कि हम बाल महिला सेवा संगठन के पदाधिकारी अथवा सदस्य है। वही ममता की माने तो वह इन सारी चीजों का श्रेय खुद को नही बल्कि अपनी संस्था के सदस्यों को देती है।

महिलाओं में दिख रही खासी जागरूकता

सामाजिक कार्यकर्ता ममता त्रिपाठी की इस मुहिम में आज क्षेत्र भर से भारी तादाद में लोग शामिल भी हो रहे हैं। इन सब के बीच यदि संगठन के विस्तार का अनुसरण किया जाए तो ममता की इस मुहिम में महिलाएं भी बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रही है। इन महिलाओं से जब हमने बात करी तो उन्होंने क्या कहा वह भी आपको बता देते हैं। 

1. यह मेरा सौभाग्य है कि बाल महिला सेवा संगठन में पदाधिकारी होते हुए मैं समाज सेवा में अपना छोटा सा योगदान कर पा रही हूँ, मैं हृदय तल से ममता जी को धन्यवाद कहती हूं कि मुझे यह जिम्मेदारी उन्होंने दी है:- आशा मौर्या

2. दीदी आती है, हालाँकि हमसे छोटी है लेकिन सब कोई उनका दीदी कहत है, उई बेचारी खुदे झाड़ू लगाए लगी एक दिन तो हम कहा बिटिया ऐसे न करो तब हमसे कहिंन की अम्मा साफ न रही तो बीमारी होई,, तब से भैया हम कोई का यहाँ कूड़ा नाई डारे देइत:- तारा श्रीवास्तव

2. हम सभी को अच्छा लगता है, खासकर तब जब ममता दीदी एक महिला होकर पूरे क्षेत्र को गंदगी व रोगमुक्त होने का अभियान चलाती है। म्याय स्वयं दीदी के इस अभियाम में शामिल हूँ और अपना शत प्रतिशत देकर इस मुहिम को एक नजीर बनाना चाहती हूँ:- वैशाली सिंह 

4. साफ सफाई तो जरूरी है, सब गंदगी इन्ही की वजह से होती है। ममता जी जिस तरह से इस अभियान को चलाया है और आठ महीनों से लगातार हर रविवार पर वो गंदगी पर वार कर रही है तो ऐसे में हम उनके साथ न हो ये कैसे हो सकता है:- नामा देवी

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ