Subscribe Us

लखनऊ में डेबिट कार्ड से बैंकों से 76 लाख से ज्यादा की जालसाजी करने वाले बंटी बबली दंपत्ति गिरफ्तार

एकाउंट में नही थी रकम फिर भी जालसाजी में सफल हुआ शातिर जोड़ा

निखिल बाजपेयी

लखनऊ। लखनऊ कमिश्नरेट के मध्य ज़ोन की बंथरा पुलिस ने शनिवार को ऐसे जालसाज पति पत्नी को गिरफ्तार किया है जिन्होंने सेंट्रल बैंक आफ इंडिया को अपने डेबिट कार्ड के माध्यम से 76 लाख रुपए से ज्यादा की चपत लगाई थी। बंथरा के बनी में स्थित सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की शाखा प्रबंधक नेहा गुप्ता के द्वारा बंथरा थाने में शुक्रवार को  दर्ज कराए गए मुकदमे के आधार पर बंथरा पुलिस ने शनिवार को कंचनपुर उन्नाव के रहने वाले करन शर्मा और उसकी पत्नी आंचल शर्मा को गिरफ्तार कर करीब साढ़े 7 लाख रुपए की संपत्ति को बरामद कर लिया है। पुलिस के अनुसार गिरफ्तार किए गए करन शर्मा और आंचल शर्मा का बंथरा के बनी में स्थित सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की शाखा में बचत खाता है। पुलिस के अनुसार इन पति पत्नियों के बैंक अकाउंट में मात्र 1983 रुपए की धनराशि ही थी बावजूद इसके इन पति पत्नी ने 19 दिसंबर से 23 दिसंबर के बीच अपने डेबिट कार्ड से भिन्न-भिन्न स्थानों से 76 लाख 20 हज़ार रुपए निकाल लिए । मात्र 1983 का खाते में बैलेंस होने के बावजूद 76 लाख रुपए से ज्यादा खाते से निकाले जाने के बाद शाखा प्रबंधक के द्वारा पति पत्नी के खिलाफ बंथरा थाने में मुकदमा दर्ज कराया गया तो पुलिस ने  जालसाज बंटी बबली को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार 4 दिनों के अंदर डेबिट कार्ड के माध्यम से निकाले गए 76 लाख 20 हज़ार रुपए में से जालसाज़ों के द्वारा 15 लाख 71 हज़ार की एसयूवी कार खरीदी गई 18 लाख 50 हज़ार के ज़ेवर खरीदे गए 5 लाख के मोबाइल खरीदे गए और 2 लाख रुपए एक पेट्रोल पंप से स्वैप किए गए । इंस्पेक्टर बंथरा ने बताया कि अभी यह पता नहीं चला है कि गिरफ्तार किए गए करन शर्मा और आंचल शर्मा के डेबिट कार्ड की लिमिट कितनी थी और इन लोगों के द्वारा इतनी बड़ी रकम डेबिट कार्ड के माध्यम से कैसे निकाली गई। उन्होंने यह बताया कि यह पता चला है कि बैंक के मेन सर्वर से करन शर्मा का डेबिट कार्ड अटैच हो गया था जिसका फायदा उसने उठाया और डेबिट कार्ड से 76 लाख रुपए की मोटी रकम निकाल ली उन्होंने बताया कि मुकदमा दर्ज कर जालसाज पति पत्नी को गिरफ्तार कर लिया गया है अब पूरे मामले की जांच की जा रही है ।

पेट्रोल पम्प पर काम करता था शातिर

 इंस्पेक्टर के अनुसार गिरफ्तार किया गया करन शर्मा पूर्व में एक पेट्रोल पंप पर कर्मचारी था लेकिन मौजूदा समय में वह मजदूरी कर रहा है । सवाल यह उठता है कि खाते में मात्र 1983 रुपए होने के बावजूद करन शर्मा का डेबिट कार्ड बैंक के मुख्य सर्वर से अगर जुड़ भी गया तो उसने डेबिट कार्ड से पैसा कैसे निकाला डेबिट कार्ड से 76 लाख रुपए से ज्यादा की रकम कैसे निकाली गई क्या इसमें बैंक के किसी कर्मचारी के द्वारा उसकी मदद की गई यह सब तो जांच में ही स्पष्ट होगा लेकिन यहां सबसे बड़ा सवाल यह है कि डिजिटल बैंकिंग के इस दौर में मात्र 21 साल के जालसाज के द्वारा बैंक को इतनी बड़ी चपत लगाई जाना आश्चर्यचकित ज़रूर करता है हालांकि पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ