Subscribe Us

थाने से महज डेढ़ सौ मीटर दूरी पर बुजुर्ग दवा व्यवसाई से दिनदहाड़े टप्पेबाजी, अंगूठी व नगदी ले उड़े टप्पेबाज

टप्पेबाजों का वही अंदाज, खुद को बताया पुलिसकर्मी, जाँच का हवाला देकर बनाया शिकार

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर तलाश शुरू

निखिल वाजपेयी

लखनऊ। लखनऊ कमिश्नरेट के पश्चिम जोन के अमीनाबाद थाने से महज डेढ़ सौ मीटर की दूरी पर श्रीराम तिराहे के पास सोमवार को दिनदहाड़े भीड़भाड़ वाले क्षेत्र में दो नकली पुलिस कर्मियों ने ई रिक्शा से जा रहे 60 वर्षीय बुजुर्ग दवा कारोबारी को अपराध की घटनाओं से डरा कर उनसे नकदी और सोने की अंगूठी उतरवाली ।  

सुंदर बाग कैसरबाग के रहने वाले दवा के थोक कारोबारी 60 वर्षीय बुजुर्ग के के राय सोमवार की दोपहर करीब 11:30 बजे ई रिक्शा से सवार होकर अपनी दुकान जा रहे थे। तभी अमीनाबाद थाने से महज 150 मीटर की दूरी पर श्रीराम तिराहे पर उन्हें हटटे कट्टे नज़र आने वाले 2 व्यक्तियों ने रोका और अपने आप को क्राइम ब्रांच का बताकर उन्हें अपराध की घटनाओं से डराया और कहा कि नगदी और अंगूठी आपको जमा करानी होगी। टप्पेबाज़ों के अर्दब में आए बुजुर्ग के के राय ने अपनी जेब से डेढ़ लाख रुपए की नगदी और हाथ में पहने सोने की अंगूठी उन्हें दे दी। नकली पुलिस कर्मी के के राय से नगदी और अंगूठी लेकर फरार हो गए । इंस्पेक्टर अमीनाबाद सूर्य बली पांडे का कहना है कि नकली पुलिस कर्मियों के द्वारा दवा कारोबारी से 25 हज़ार रुपए की नकदी और अंगूठी ली गई है उन्होंने कहा कि घटना की जांच की जा रही है। आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज की जांच भी की जा रही है। 

शहर भर में टप्पेबाजों का बोलबाला

आपको बता दें कि टप्पेबाजी की शहर में यह पहली घटना नहीं है इससे पहले भी ठाकुरगंज, चौक , अमीनाबाद, मोहनलालगंज चिनहट आदि तमाम थाना क्षेत्रों में टप्पेबाजी की घटनाएं घटित हो चुकी हैं यहां सबसे बड़ा सवाल यह है कि टप्पेबाजी की अधिकतर घटनाएं टप्पेबाज़ों ने अपने आप को पुलिस कर्मी बताकर अंजाम दी हैं जिससे कहीं ना कहीं पुलिस की वर्दी पर भी दाग जरूर लग रहे हैं। लगातार हो रही टप्पेबाजी की घटनाओं के समाचार भी प्रकाशित हो रहे हैं लेकिन बावजूद इसके जनता भी जागरूक नहीं हो पा रही है और टप्पेबाज़ों के झांसे में आकर लोग अपनी खून पसीने की कमाई को गवा रहे हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ