Subscribe Us

एआईएमआईएम कैसे लड़ेगी यूपी विधानसभा चुनाव, जब पार्टी में ही इत्तेहाद नही

  सगीर अमान उल्लाह (सत्य स्वरूप)

बाराबंकी। पिछले दिनों एआईएमआईएम सदर असद ओवैसी की रामपुर में जनसभा के दौरान जिला प्रमुख सचिव और एआईएमआईएम कार्यकर्ताओं में किसी बात को लेकर कहासुनी हो गयी थी। मौके पर पार्टी विरोधी गतिविधियों का आरोप लगाकर जिला प्रमुख महासचिव फैसल मालिक को पार्टी कार्यकर्ताओं ने मंच से नीचे धकेल दिया। जिसके बाद वहां ऑफर तफरी का माहौल बन गया था। वो तो भला हो वहां पर तैनात पुलिस कर्मियों का जिन्होंने मामले की गंभीरता को समझते हुए बीच बराव करा कर मामले को शांत करा दिया।
       इस घटना से जिले में पार्टी कार्यकर्ताओं की विपक्षियों ने जमकर आलोचना की। मामले की जानकारी जब पार्टी के प्रदेश स्तरीय आलाकमान नेताओं तक पहुंची तो उन्होंने जांच करा कर दोषियों पर कार्यवाही की बात कही थी। फिहलाल अभी हाल ही में जिले की कमान संभालने वाले जिलाध्यक्ष कुँवर जामी ने जिला कार्यालय पर प्रेस कांफ्रेंस कर पत्रकारों को बताया कि जिला प्रमुख महासचिव फैसल मालिक समेत  फैज़ुर्रह्मान व दानिश अहमद को हमेशा के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि फैसल मालिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मुझपर कई आरोप लगाए जिसकी वजह से समाज मे मेरी छवि खराब हुई है इसके लिए मैं फैसल मालिक पर मानहानी का मुक़दमा भी करूँगा।

कई महीनों से पार्टी के अंदर चल रहा था मतभेद

    आपको बता दे कि पिछले कई महीनों से एआईएमआईएम जिला संगठन में बिखराव की खबरें कई अखबारों व वेब मीडिया पर चर्चा में रही थी। जिले में प्रत्याशियों के टिकट को लेकर हो या पदाधिकारियों की नियुक्ति को लेकर पार्टी के अंदर आपसी मतभेद चल रहा था। पिछले दिनों फैसल मालिक ने अपने संस्थान का उद्घाटन सपा नेता अरविंद सिंह गोप द्वारा कराना पार्टी के कई पदाधिकारियों को रास नही आ रहा था। दूसरी ये की फैसल मालिक अक्सर सपा नेताओं के साथ नज़र आ रहे थे। इन सब कारणों से पार्टी के अंदर काफी उथल पुथल मची हुई थी। जिसकी शिकायत पार्टी के लोगो द्वारा प्रदेश कार्यालय तक बराबर पहुंचाई जा रही थीं। इसी के चलते प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली शाहा के निर्देश पर ये फैसला किया गया है।
  प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली से इस मामले में जब सत्य स्वरूप संवाददाता ने बात की तो उन्होंने बताया कि अनुशासनहीनता के चलते जिला संगठन ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया है। ये फैसला कार्यवक जिला अध्यक्ष का है प्रदेश स्तर से निष्काशन का कोई निर्देश नही दिया गया है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद चर्चाओं का बाजार गर्म

आपको अवगत करा दे कि फैसल मालिक एआईएमआईएम पार्टी में कई वर्षों से सक्रिय कार्यकर्ता रहे हैं। जिला प्रमुख महासचिव के पद पर रहते हुए उन्होंने जिले में पार्टी को मजबूत करने व संगठन को बढ़ाने में उनकी अहम भूमिका रही है। यहाँ तक कि नए जिलाध्यक्ष कुँवर जामी को बसपा से एआईएमआईएम लेन वाले भी यही थे। फैसल मालिक के पार्टी से निष्कासन के बाद राजनीतिक गलियारे में चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है। लोगो का कहना है कि जिसने जिले में पार्टी को पहचान दिलाई आज उसी को पार्टी से निकाल दिया गया है

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ