Subscribe Us

सोमवार को लखनऊ में होगी किसान महापंचायत, राकेश टिकैत ने किसानों को भारी मात्रा में जुड़ने का किया आवाह्न

 


निखिल वाजपेई

लखनऊ। उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने तीन कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा कर दी है। इस ऐलान के बाद भी बड़ी संख्या में किसान धरने पर बैठे हैं। इस बीच किसान नेता और भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने 22 नवंबर को लखनऊ में एक किसान महापंचायत करने का निर्णय लिया है। उन्होंने किसान महापंचायत को सफल बनाने के उद्देश्य से दूरदराज के किसानों को लखनऊ पहुंचने का आह्वान किया है। किसान नेता राकेश टिकैत ने ट्वीट कर कहा है कि 22 नवंबर को लखनऊ के इकोगार्डंन ( पुरानी जेल ) बंगला बाजार में आयोजित किसान महापंचायत में आप सभी किसान, मजदूर व युवा साथी अधिक से अधिक संख्या में महापंचायत में शामिल हों। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा जिन कृषि बाजार सुधारों की बात की जा रही है वह नकली व बनावटी है। इन सुधारों से किसानों की बदहाली रुकने वाली नहीं है। कृषि व किसान के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानून बनाना सबसे बड़ा सुधार होगा। उन्होंने कहा कि महापंचायत में किसानों के खिलाफ मुकदमे वापस लेने और मारे गए किसानों को मुआवजा दिलाने के मुद्दे पर चर्चा होगी।

शुक्रवार को पीएम मोदी ने कृषि कानून वापसी का किया था ऐलान

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक वर्ष से चले आ रहे किसान आंदोलन को ध्यान में रखते हुए शुक्रवार को तीनों कृषि कानून को वापस करने ऐलान किया। उन्होंने कहा कि संसद की आगामी शीतकालीन सत्र में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने की दिशा में पूरी प्रक्रिया संपन्न की जाएगी। उन्होंने यह भी कहा कि हमें इस बात का अफसोस रहेगा कि हम तीनों ही कृषि कानून होने से होने वाले फायदों के बारे में किसानों को नहीं समझा पाए। जिसका नतीजा हुआ है कि ये कानून वापस लेने पड़ रहे हैं। पीएम मोदी ने किसान भाइयों से माफी भी मांगी।

वापसी ऐलान के बाद भी जारी है आंदोलन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ऐलान के बाद भी किसान संगठनों की तरफ से आंदोलन खत्म करने के बारे में अभी तक कोई भी विचार नहीं किया गया है। किसान संगठनों ने साफ कर दिया है कि जब तक एमएसपी पर कानून नहीं बन जाता है, तब तक उनका यह आंदोलन जारी रहेगा। किसान संगठनों ने तीनों कृषि कानूनों के वापस लेने के बाद आगे की रूपरेखा को तैयार करने के लिए राजधानी लखनऊ में 22 नवंबर में किसान महापंचायत का आयोजन किया जाएगा जिसमें भारी संख्या में किसानों के शामिल होने की बात कही जा रही है। माना जा रहा है कि किसान महापंचायत के दौरान विभिन्न मसलों पर चर्चा की जाएगी। विशेषतौर पर चर्चा केंद्र में यह विषय प्रमुखता से उठेगा कि कृषि कानूनों के वापस लिए जाने के बाद आगामी दिनों में किसानों आंदोलन को सही दिशा प्रदान करने हेतु आंदोलन की क्या रूपरेखा तय करनी होगी। इसके अलावा 26 नवंबर को आंदोलन को पूरे एक वर्ष होने जा रहा है। ऐसे में अब देखना होगा कि कानूनों की वापस होने के बाद आंदोलनकारी किसानों की घर वापसी कब होती है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ