Subscribe Us

फैजुल्लागंज में शुरू हुआ तितर बितर पड़ी श्री गणेश लक्ष्मी मूर्तियों को बहते जल में प्रवाहित करने का अभियान

बाल महिला सेवा संगठन के तत्वाधान में हुआ आगाज, एक हफ्ते चलेगा अभियान

निखिल वाजपेई

लखनऊ। दीपावली के पावन पर्व पर श्री लक्ष्मी गणेश भगवान  पूजन किया जाता है। ऐसे में दीवाली पाश्चात अक्सर लोगों द्वारा इन मूर्तिंयो को किसी पेड़ के नीचे तो किसी कुंवे इत्यादि में रख देते हैं। लेकिन इसके चलते भगवान की मूर्तियां तितर बितर भी हो जाती है। ऐसे में लखनऊ की समाजसेवी संस्था ने फैजुल्लागंज इलाके में इन मूर्तियों को उठाकर बहते जल में ससम्मान प्रवाहित करने का विशेषभियान शुरू किया है। सोमवार को इस अभियान का आगाज हो गया है। संस्था की अध्यक्षा समाजसेविका ममता त्रिपाठी ने बताया कि फैजुल्लागंज में लगभग पूरे इलाके में ही कई जगह श्री लक्ष्मी गणेश की मूर्तियां रखी हुई दिखाई देती है। मूर्तियों की स्थिति तितर बितर हो जाती है और गंदगी में भगवान का होना उनका अपमान है। ऐसे में जरूरी है कि मूर्तियों को बहते जल में प्रवाहित किया जाए। ममता ने बताया कि इसके लिए बीएमएसएस ने इस कार्य का बीड़ा उठाया है और सोमवार से शुरू भी कर दिया गया। ममता ने बताया कि अभियान लगातार एक हफ्ते चलेगा और इस पूरे हफ्ते भर में फैजुल्लागंज से सभी मूर्तियों को ससम्मान बहते जल में प्रवाहित कर दिया जाएगा। इस अभियान में ममता के साथ ही समाजसेवी संतोष त्रिपाठी, संगठन के मीडिया प्रभारी मुरली प्रसाद वर्मा, आशा मौर्या, हेमलता सिंह के साथ साथ ही क्षेत्र के लोग भी मदद कर रहे हैं।

हर रविवार गंदगी पर वार अभियान भी है जारी

समाजसेवी ममता त्रिपाठी ने बताया कि क्षेत्र के जनता के हित के प्रत्येक कार्य के लिए संगठन हमेशा त्तपर है। इसलिए क्षेत्र में विशेष अभियान चलाए जाते रहते है। मूर्तियों के विसर्जन अभियान के अलावा संगठन द्वारा फैजुल्लागंज इलाके में हर रविवार गंदगी पर वार अभियान भी जारी है। जो हर रविवार को चलाया जाता है। चूंकि फैजुपलगंज इलाका दूषित इलाको में शुमार है ऐसे मे यहाँ बीमारियों का खतरा ज्यादा रहता है। इसके लिए इस अभियान के तहत हर रविवार को सफाई अभियान संगठन के लोगों द्वारा चलाया जाता है। इसके अलावा अभियान के तहत ही क्षेत्र के जनता से निरंतर संवाद कर उन्हें साफ सफाई, बीमारियों से सावधानी के तरीकों इत्यादि पर उन्हें जागरूक भी किया जाता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ