Subscribe Us

बाराबंकी : जश्ने ईद मिलादुन्नबी के मौके पर जलसे का आयोजन

  जावेद शाकिब (सत्य स्वरूप)

  बाराबंकी। जश्ने ईद मिलादुन्नबी के मुबारक मौके पर फजलुर रहमान पार्क में हर साल की तरह इस साल भी प्रशासन की अनुमति से एवम कोविड गाइड लाइन का पालन करते हुए अराकीन कमेटी बज्मे गौशुल वरा के सदर सैय्यद इकराम हुसैन साहब की सदारत में जलसे का एहतिमाम किया गया।

 पूरे आलम को इंसानियत का पैगाम देने वाले हज़रत मुहम्मद मुस्तफ़ा सललल लाहो अलैहे वसल्लम की यौमे विलादत के मुबारक मौके पर बड़े खुश नुमा माहौल में प्रोग्राम का आगाज हुजूर सल. की शान में नात पाक से शुरू किया गया। उसके बाद हजरत मौलाना, मुफ्ती इर्शादुल कादरी साहब,और हजरत मौलाना मुफ्ती कलीम नूरी साहब,हजरत मौलाना जाहिद निजामी साहब,ने कुरान और हदीस की रोशनी में खिताब किया।

 उन्होंने कहा कि हुज़ूर सल. केवल मुस्लिम कौम के ही रसूल सल. नही थे बल्कि पूरे आलम के रसूल सल.थे। उन्होनें इंसानियत का पैगाम पूरे आलम को दिया।अगर रसूल सल.के ऊपर बयान किया जाए तो कई साल लग जाएंगे।उनकी एक एक सुन्नत को अपने में उतारने की जरूरत है।

     इस मुबारक मौके पर मौलाना फरीद साहब ने जलसे की निजामत की और मौजूद लोगों में कमेटी के हाजी मुशब्बिर साहब,कारी रफीक साहब,हाफिज कमालुद्दीन,हाजी शम्मे,हाजी उसामा अंसारी,हशमत अली गुड्डू,नसीम खान,रईस अंसारी, मो शुएब,इरशाद रजाकी, हाजी अलाउद्दीन अंसारी,मुजीब अंसारी, आफताब अहमद,और तमाम मौलाना, मुफ्ती, हाफ़िज़,कारी, तालीबे इल्म,और रसूल सल. के चाहने वाले मौजूद थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ