Subscribe Us

शारदीय नवरात्रि को लेकर प्रशासनिक हलचल तेज, मैराथन बैठकों का दौर जारी

  महेंद्र पांडे

  मिर्जापुर। उत्तर भारत के प्रसिद्ध शक्तिपीठों में शुमार विंध्यवासिनी धाम में 7 अक्टूबर से शारदीय नवरात्र मेला प्रारंभ होने वाला है! इसे देखते हुए मेला तैयारी के लिए प्रशासनिक हलचले तेज हो गई है! पिछले दिनों मिर्जापुर कलेक्ट्रेट में जिला अधिकारी की अध्यक्षता में सभी विभागों के अधिकारियों के साथ नवरात्र मेला संपादित कराने के लिए व्यवस्था संबंधित सुझाव मांगे गए थे! आज विंध्याचल के प्रशासनिक भवन में कमिश्नर योगेश्वर राम मिश्रा के अध्यक्षता में हाई लेवल की मीटिंग हुई! जिसमें सभी विभाग के अधिकारी उपस्थित थे, पूर्वांचल को जोड़ने वाला मुख्य मार्ग इन दिनों जर्जर है उसे 10 दिन के अंदर ठीक करने का निर्देश पीडब्ल्यूडी विभाग को कमिश्नर ने दिया है, विंध्याचल की प्रत्येक गलियों को अतिक्रमण मुक्त और उसे दुरुस्त करने के साथ-साथ नगर पालिका परिषद को निर्देशित किया कि मेले में साफ सफाई की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए। वाहन पार्किंग के नाम पर किसी भी तीर्थयात्री का उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। गंगा घाटों पर बैरिकेडिंग के साथ-साथ सुरक्षा के तगड़े इंतजाम किए जाएंगे। मेला क्षेत्र के तीनों मंदिरों पर साफ सफाई प्रकाश की व्यवस्था 4 अक्टूबर तक हर हाल में दुरुस्त किया जाए। मां विंध्यवासिनी मंदिर की वास्तविक फूलों से सजावट की जाएगी। इन दिनों विंध्य कॉरिडोर के कारण विंध्याचल के मुख्य मार्ग क्षतिग्रस्त हैं ऐसी स्थिति में तीर्थ यात्रियों को कोई असुविधा न हो संबंधित विभाग समय रहते उसे दुरुस्त करें। पटेगरा रेलवे पुल के नीचे जलजमाव ना हो इसलिए सड़क को दुरुस्त करने का निर्देश दिया गया है। रेहड़ा रेलवे पुलिया के अंदर जलजमाव को लेकर और सड़क को दुरुस्त करने का सख्त निर्देश दिया गया। गंगा घाटों पर  विशेष सतर्कता वरतने की जरूरत है। नगर पालिका परिषद विंध्याचल मेला क्षेत्र को सेक्टर और जोन में विभाजित करके सफाई का मुकम्मल व्यवस्था करेगा। 10 दिन के अंदर विंध्याचल के लिए प्रवेश करने वाले सभी सड़कों को गुणवत्ता के आधार पर दुरुस्त करने का निर्देश कमिश्नर ने दिया है। 7 अक्टूबर से शारदीय नवरात्र मेला प्रारंभ होने वाला है गैर जनपदों से भारी संख्या में पुलिस बल मेला क्षेत्र में तैनात किए जाएंगे।

  शारदीय नवरात्र मेला में बिजली व्यवस्था दुरुस्त करने के संबंध में एसडीओ आशीष शुक्ला ने बताया कि बिजली विभाग के द्वारा मेला परिक्षेत्र में एक कैंप कार्यालय बनाया जाएगा!  10 किलोमीटर के परिक्षेत्र में लगने वाले मेला को इस कैंप कार्यालय से संचालित किया जाएगा। विद्युत विभाग के लगभग आधा दर्जन वरिष्ठ अधिकारी कई जेई सैकड़ों के संख्या में कर्मचारी 24 घंटे विद्युत आपूर्ति बहाली में लगे रहेंगे। एसडीओ ने कहा की मेला क्षेत्र में विद्युत व्यवस्था बाधित ना हो इसके लिए लगभग आधा दर्जन ट्रांसफार्मर की अतिरिक्त व्यवस्था की जाएगी। अभी से विद्युत तारों को दुरुस्त करने का कार्य शुरू करा दिया गया है। देवी भक्तों को किसी भी तरह की परेशानी ना हो इसके लिए विद्युत विभाग जबरदस्त तैयारी में है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सख्त निर्देश पर जिला प्रशासन व्यवस्था को लेकर हाई अलर्ट मोड पर है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ