Subscribe Us

कैबिनेट मंत्री के चालक की संदिग्ध मौत, घरवालों ने काटा हंगामा

    निखिल वाजपेई

  लखनऊ। प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री नारायण राणे के चालक अशोक वर्मा की रविवार रात मौत हो गई। चालक के परिवारीजन ने राज्य संपत्ति विभाग के मोटर इंचार्ज पर प्रताड़ना का आरोप लगाया है। चालक की मौत से अक्रोशित उनके परिवारीजन ने मोटर इंचार्ज पर कार्यवाही की मांग को लेकर सिविल अस्पताल में जमकर हंगामा किया। एसीपी हजरतगंज राघवेंद्र कुमार मिश्र ने आक्रोशित परिवारीजन को तहरीर के आधार पर कार्यवाही का आश्वासन देकर समझाकर शांत कराया।

   निशातगंज पेपर मिल कालोनी निवासी अशोक कुमार राज्य संपत्ति विभाग में चालक थें। उनके दामाद श्रीशरण ने बताया कि हार्ट और शुगर संबंधी बीमारी के कारण बीते कई दिनों से उनके ससुर छुट्टी पर थें। सिविल अस्पताल से उनका इलाज भी चल रहा था। एक सितंबर को ही ज्वाइन किया था। रविवार सुबह उनकी तबियत फिर कुछ बिगड़ी उन्होंने राज्य संपत्ति विभाग के मोटर विभाग के इंचार्ज अमरीश श्रीवास्तव को फोन कर कहा कि वह ड्यूटी नहीं आ पाएंगे। अमरीश ने उन्हें सस्पेंड करने की धमकी दी। इसके बाद वह चले गए। दिन भर काम पर रहे। रात में जब उनकी छुट्टी हुई तो उन्हें एक कैबिनेट मंत्री के साथ लगा दिया। कैबिनेट मंत्री को एयरपोर्ट छोड़ने जाने की ड्यूटी लगा दी। पापा उन्हें कैबिनेट मंत्री को एयरपोर्ट जा रहे थें। इस बीच रास्ते में उनकी हालत बिगड़ गई। विभाग को सूचना दी गई तो दूसरा चालक मंत्री के साथ भेजा गया। पापा को इलाज के लिए सिविल भेजा गया। 

   सिविल में डाक्टरों ने पापा को मृत घोषित कर दिया। श्रीशरण व अन्य परिवारीजन ने मोटर विभाग के इंचार्ज पर कार्यवाही की मांग को लेकर जमकर हंगामा किया। इस मामले पर बात करते हुए एसीपी राघवेंद्र मिश्रा ने बताया कि परिवारीजन मंत्री का नाम सही से नही बता पा रहे हैं। फिलहाल अशोक के घरवालों की लिखित शिकायत का इंतेजार है वो जो भी  तहरीर देंगे उस आधार पर कार्रवाई की जाएगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ