Subscribe Us

कमिश्नर सख्त...गुंडा नियंत्रण अधिनियम में पाँच मनबढ़ दबंग छः माह के लिए जिलाबदर

  निखिल वाजपेई

  लखनऊ। यूपी के चार जनपदों लखनऊ,वाराणसी, कानपुर नगर और गौतमबुद्ध नगर में आयुक्त प्रणाली लागू होने के बाद राजधानी लखनऊ को पहला पुलिस कमिश्नर आईपीएस सुजीत पांडेय के रूप में मिला। इसके बाद यह कमान आलाकमान ने आईपीएस ध्रुवकांत ठाकुर को सौंपी। जबसे डीके ठाकुर ने लखनऊ कमिश्नर का पद भार संभाला अपने मंसूबे साफ कर दिए। ताबड़तोड़ कार्रवाईयों से कमिश्नर डीके ठाकुर ने यह स्पष्ट कर दिया कि राजधानी में अपराधी किसी भी प्रकार को हो बख्शा नही जाएगा। सोमवार को भी कमिश्नर डीके ठाकुर ने लखनऊ के लिए अपराध का पर्याय बन चुके पाँच मनबढ़ दबंग अपराधियो को छः माह के लिए जिलाबदर कर दिया। 

  कमिश्नर लखनऊ डीके ठाकुर ने बताया कि शहर में मनबढ़ व दबंग आपराधिक प्रवृत्ति वालों के चलते अपराध ग्राफ बढ़ने लगता है। ऐसे में लखनऊ कमिश्नरेट द्वारा लगातार दबंग मनबढ़ बदमाश माफियाओं पर कार्रवाई जारी है। इसी क्रम में लखनऊ से चिन्हित पाँच मनबढ़ दबंगो क्रमशः  रिजवान उर्फ अली तारिख  निवासी जाफरिया कॉलोनी थाना ठाकुरगंज पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ, उधव यादव  निवासी कठिगरा थाना काकोरी पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ, राघव उर्फ सागर पाल निवासी मुंशीखेड़ा थाना सरोजनी नगर पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ, अरविंद निवासी ग्राम सीखना घाट थाना सुशांत गोल्फ सिटी पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ एवं  कुलदीप सिंह निवासी ग्राम ललूमर थाना मोहनलालगंज पुलिस कमिश्नरेट, लखनऊ को गुंडा नियंत्रण अधिनियम के तहत छः माह के लिए लखनऊ जनपद से जिलाबदर कर दिया गया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ