Subscribe Us

रहस्यमय हालातों में युवक ने काटी हाँथ की नस,दर्दनाक मौत, खून से लथपथ घर मे ही मिला शव


   निखिल वाजपेयी

   लखनऊ। उत्तरी जोन के गुडंबा थाना क्षेत्र में शनिवार सुबह एक युवक का शव उसके घर मे खून से लथपथ मिलने से सनसनी फैल गई। बताया जा रहा हैं कि युवक ने धारदार हथियार से हाँथ नस काटकर आत्महत्या कर ली।  घटना की जानकारी पाकर इंस्पेक्टर गुडंबा मोहम्मद अशरफ व एसीपी सुनील शर्मा समेत भारी फोर्स मौके पर पहुँची और पड़ताल शुरू की। हालांकि पुलिस  घटना की वजह आत्महत्या बता रही है। जानकारी के मुताबिक 34 वर्षिय अशोक सोनी उर्फ कल्लू थाना क्षेत्र के सहारा एस्टेट रोड स्थित एक प्लॉट में झोपड़ी डालकर रहता था। वह गैस चूल्हे का काम करता था। शनिवार सुबह अशोक का खून से लथपथ शव झोपड़ी में तख्त पर ओंधे मुंह पड़ा मिलने से हड़कंप मच गया। स्थानीय लोगो ने मृत्तक के भाई दुर्गेश को घटना की जानकारी दी।  देखते ही देखते घटनास्थल पर लोगो का भारी हुजूम इकट्ठा हो गया। अशोक की पत्नी सोनी उर्फ बंटी ने बताया की घटना के वक्त वह अपने मायके में थी। वही  मृतक के परिवार में पत्नी बंटी समेत उसके दो बच्चे प्रिंस व यीशू  हैं। इंस्पेक्टर अशरफ का कहना है कि मृतक को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर पड़ताल शुरू की गई है। घटना के संबंध में इंस्पेक्टर मोहम्मद अशरफ ने बताया कि पड़ताल की जा रही है। शरीर पर अन्य कोई चोट के निशान नही है सिवाय बाए हाँथ के।

झेल रहा था आर्थिक तंगी कि मार

मृतक के भाई दुर्गेश ने बताया कि अशोक शराब पीने का आदी था। शराब के चक्कर मे उसने सब बेंच दिया था। उसने अपनी दो दो गुमटियों समेत घर का भी लगभग सब सामान बेच।दिया था। इसके बाद से ही वह आर्थिक तंगी की मार झेल रहा था। शराब की लत पूरी नही हो पाने की वजह से आत्महत्या करने की बात करता था। वही सवाल यह खड़ा हो गया है कि कैसे अशोक ने यह कदम उठाया। हालांकि अशोक की झोपड़ी के बगल में ही चार मजदूर परिवार भी रहते है। उन्होंने बताया कि अशोक पूर्व में भी हाँथ की नस काट चुका था पर वह बच जाता था लेकिन इस बार गहराई से नस काटने की वजह से उसकी मौत हो गई। 

बर्बाद हो गई कच्ची गृहस्थी

मृतक अशोक उर्फ कल्लू के दो छोटे बच्चो में लड़का प्रिंस व लड़कीं इशू है। अशोक की आत्महत्या से उसकी कच्ची गृहस्थी टूट गई। उसके बच्चो के ऊपर से पिता का साया उठ गया। उसकि पत्नी सोनी उर्फ बंटी बेवा हो गई। अशोक तीन भाइयों में सबसे बड़ा था। कुछ वर्ष पूर्व उससे छोटे भाई राजू की सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी। अब इसके बाद अशोक का सबसे छोटा भाई दुर्गेश ही बचा जो अभी अनमैरिड है। राजू व अशोक दोनो ही के परिवारों की जिम्मेदारी अब दुर्गेश के कंधों पर आ गई है। ऐसे में स्थानीय लोगो मे भी यही चर्चा है कि नन्ही जान दुर्गेश दो दो परिवारों का भरण पोषण कैसे करेगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ