Subscribe Us

ज़हीन फातिमा ने महज 5 वर्ष की उम्र में क़ुरान मुकम्मल कर पूरा किया माँ बाप का सपना

   सत्य स्वरूप संवाददाता

  लखनऊ। माँ बाप का सपना होता है के उनके बच्चे पढ़े लिखे शिक्षा के मैदान में उच्च दर्जा प्राप्त करे और उनका नाम रौशन करे। कुछ इसी तरह से पुराने लखनऊ निवासी मंसूर नगर क्षेत्र के रहने वाले मोहम्मद एहतिशाम की 5 वर्षय बेटी ने कर दिखया और अपनें माँ बाप का सिर गर्व से ऊंचा कर दिया। बात यह एक 5 वर्षय ज़हीन फात्मा की हो रही है जिन्हों ने 5 वर्ष की उम्र में अपने मुस्लिम धर्म की किताब क़ुरान पाक को मुकम्मल किया। इतनी छोटी उम्र में ज़हीन ने क़ुरान पाक पूरा पढ़ कर अपने माता पिता सिर गर्व से ऊंचा कर दिया वही समाज मे भी उनकी एक अच्छी छवि बनवाई जिससे लोगो को प्रेरणा लेना चाहिये के वो भी अपने बच्चो को पढ़ाई के लिये उतनी ही मेहनत करे जैसे ज़ाहीन के माता पिता ने की ज़ाहीन की तालीम के लिए  उन टीचर का भी उतना बड़ा योगदान होता है जितना बड़ा योगदान उनके माता पिता का है टीचर बच्चो को शिक्षा प्रदान करता है और उनके उज्वल भविष्य के लिए मेहनत करता है ऐसे शिक्षक की भी बेहद ज़रूरत है समाज को! वही ज़ाहीन के पिता एहतिशाम ने टीचर (उस्ताद) अज़ीम का भी तहेदिल से शुक्रिया अदा किया। जिनकी वजह से 5 वर्ष की उम्र में क़ुरान मुकम्मल कर पायी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ