Subscribe Us

सफल जीवन के रास्ते :- क्या हम अपनी आदतों के पैटर्न को जानतें है?

  डॉ० अनीता धगयामवर

  हमारी जिंदगी की सभी कार्य करने की क्षमता और कार्य प्रणाली हमारे मस्तिष्क पर निर्भर करती हैं जैसे कभी अगर हमारे कपड़ों पर स्याही गिर जाए या फिर चाय गिर जाए तो हम तुरंत उसको साफ करने लगते  है। क्योंकि हमें पता है अगर इसे तुरंत साफ नहीं किया गया तो दाग रह जाएगाI इसी तरह से हमारी कुछ आदतें होती है। अगर उस पर सही समय पर ध्यान नहीं दिया गया तो वो आगे आने वाले समय पर हमारे लिए हानिकारक हो सकती है और हमारे भविष्य पे उसका असर दिखाई दे देता है क्योंकि कहीं ना कहीं हमारी मानसिक स्थिति उन कारणों से प्रभावित होती है जैसे किसी भी काम को कल पर टालना, झुठबोलना, गुस्सा होना, किसी से अच्छे से बात नहीं करना आदि। ठीक इसी तरह हमारी अच्छी आदतों का पैटर्न होता है जैसे किसी भी बातों को ध्यान से सुनना, लोगों की मदत करना, मॉर्निंग एक्सरसाइज करना, योग करना आदि अगर हम इस तरह की कुछ आदतों को अपने दैनिक जीवन में अगर लातें है तो उसका धीरे धीरे एक पैटर्न बन जाता हैं, और फिर उसकी आदत हो जाती है जो हमारे लिए सामाजिक एवं मानसिक तौर पर अच्छी होती है। जैसे इस ओलंपिक खेलों में हमें देखने को मिला ,जिन्होनें एक खेल कि तैयारी बहुत अच्छे से सालों से की वो इस ओलंपिक खेलों में देखने को मिला खिलाड़ियों में कॉन्फिडेंस, फोकस और आत्मविश्वास देखने को मिला। क्योंकि उनकी  लगन,मेहनत की आदत बन गई और रिजल्ट हमारे सामने है। अब हमें ये निर्णय लेना होगा कि हमें खुद से सवाल करना होगा की जो मेरी आदत है उनमें से कौन सी आदत हैं  जिस पर मुझे काम करना है और उसकी जगह कौन सी नई आदत अपनाना हैं। जो मेरे और मेरे साथ वालों के लिए ठीक होगा।   फिर क्या आप लग जाइऐ उसे बदलने में क्योकि समय के साथ साथ वो आदतें आपके व्यक्तित्व का हिस्सा बन जायेगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ