Subscribe Us

जागरूकता से परिवार नियोजन सेवाओं की बढ़ी मांग : सीएमओ


पीएसआई संस्था के सहयोग से परिवार कल्याण सेवाओं पर कार्यशाला हुई आयोजित 

परिवार नियोजन का मुख्य उद्देश्य मातृ-शिशु मृत्यु दर में कमी लाना 

मुबारक अली

शाहजहांपुर यूपी। नगरीय परिवार नियोजन सेवाओं को बेहतर बनाने में  लिए स्वास्थ्य विभाग के साथ अन्य सहयोगी  संस्थाओं सहित सभी विभागों की सक्रिय भागीदारी  आज की सबसे बड़ी जरूरत है |  परिवार नियोजन में पुरुषों को अपनी भागेदारी निभाना बहुत जरूरी है क्योंकि परिवार नियोजन में पुरुषों को भी अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी क्योंकि पुरुष नसबंदी महिला नसबंदी की अपेक्षा बहुत ही सरल और आसान है | इसके साथ ही परिवार कल्याण की अंतराल (अस्थायी) स्पेसिंग सेवाओं को ज्यादा से ज्यादा अपनाने के लिए प्रेरित करने की जरूरत है | में सहयोग प्रदान करें ।  

 मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. एस पी गौतम ने  यह बात जनपद शाहजहांपुर के स्थानीय एक होटल में  द दा चेलेंज इनिसिएटिव फॉर हेल्दी सिटी कार्यक्रम के अंतर्गत स्वयंसेवी संस्था पॉपुलेशन सर्विसेज स इंटरनेशनल (पीएसआई)  के सहयोग से आयोजित संवेदीकरण  कार्यशाला के दौरान उन्होंने कहा कि जन जागरूकता के कारण जन समुदाय में परिवार नियोजन के साधनों की मांग बढ़ी है । उन्होंने कहा कि जागरूकता के चलते आज परिवार नियोजन सेवाओं की मांग बढ़ी है, जो प्रसन्नता की बात है |

डॉ. पी.के वर्मा अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी  ने परिवार कल्याण को लेकर जनपद में चल रहीं स्वास्थ्य योजनाओं के बारे में विस्तार से बताने के साथ ही परिवार नियोजन की जरूरत पर प्रकाश डाला । उन्होंने कहा कि उपलब्ध विकास के संसाधनों का समुचित वितरण और बढ़ती जनसँख्या दर के बीच संतुलन बनाने के लिए जनसँख्या स्थिरीकरण आज के समय की सबसे बड़ी जरूरत है । इसके लिए सभी सरकारी स्वास्थ्य इकाइयों पर उपलब्ध संसाधनों के साथ ही  परिवार नियोजन की सेवाओं को बेहतर बनाना है । 

मिनाक्षी दीक्षित सीनियर प्रोग्राम मैनेजर पीएसआई  ने  कहा कि परिवार नियोजन का मुख्य उद्देश्य मातृ एवं शिशु मृत्यु दर में कमी लाना है । इसके लिए शहरी स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतरी  सफलतापूर्वक प्रदान करवाने के लिए शहर में पीएसआई संस्था पिछले चार वर्षों से कार्यरत है ।

  उन्होंने कहा कि सभी प्रतिभागी जन समुदाय को प्रेरित करें कि  लोग अपने व बच्चे के बेहतर स्वास्थ्य के लिए दो बच्चों के जन्म में तीन साल का अंतर जरूर रखें और परिवार जब पूर्ण हो जाए तो नसबंदी की सेवा का लाभ जरूर उठायें । बच्चों के जन्म में अंतर रखने के लिए ओरल पिल्स, आईयूसीडी प्रसव पश्चात/गर्भ समापन पश्चात्, त्रैमासिक गर्भनिरोधक इंजेक्शन अंतरा, हार्मोनल गोली छाया व कंडोम की सुविधा हर स्वास्थ्य केन्द्रों पर मुफ्त उपलब्ध है । इसलिए अनचाहे गर्भ से बचने के लिए इन सेवाओं का लाभ उठाया जा सकता है ।  

इस दौरान अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रोहताश ,डॉ . गोविंद स्वर्णकार ,नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ . वीके वर्मा , जिला मलेरिया अधिकारी डॉ. पी के श्रीवास्तव , डीपीएम इमरान खान ,डीसीपीएम पुष्पराज गौतम , अमित दुवे, भुवनेश दीक्षित , डॉ. योगेन्द्र कुमार ,जिला स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी कृष्ण मोहन कनौजिया , सुखवीर यादव सीफॉर, रुचिता वर्मा , कमला सिंह , महिला एवं बाल विकास विभाग से  सुषमा म रानी , नवीन वर्मा ,आयुष्मान पांडेय , धर्मेंद्र सिंह ,गणेश शुक्ला सहित पीएसआई की टीम उपस्थित रही है l

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ