Subscribe Us

धोखाधड़ी के शिकार युवक ने विधानसभा के सामने युवक ने की आत्मदाह की कोशिश

   जावेद शाकिब

   लखनऊ। विधानसभा के सामने उस समय हड़कम्प मच गया जब एक युवक ने खुद पर मिट्टी का तेल छिड़क कर आत्मदाह का प्रयास किया।

  नरेन्द्र मिश्र नामक युवक खुद को आग लगाने जा ही रहा था कि तभी मौके पर मौजूद पुलिस ने आत्मदाह कर रहे नरेंद्र की कोशिश को नाकाम कर दिया। पुलिस के जवानों ने युवक को तुरंत पकड़ कर गाड़ी में बैठा लिया। विधानसभा के पास पहले से ही भारी पुलिस फ़ोर्स मौजूद थी जिससे युवक घटना को अंजाम नही दे पाया।

  नरेंद्र के मुताबिक यूपी की राजधानी लखनऊ में आरएफसी कार्यालय में तैनात मार्केटिंग इंस्पेक्टर आदित्य सिंह व उनकी बुआ के लड़के सौरभ सिंह द्वारा आरएफसी विभाग में ही नरेंद्र मिश्र के साथ मिलकर ठेकेदारी कर रहे थे। 

   नरेन्द्र मिश्र का आरोप है कि इन लोगो के द्वारा मेरे साथ लगभग सवा सौ करोड़ का गबन किया। इसकी शिकायत करने पर मुझे इन लोगो द्वारा फर्जी मुकदमे में फसाकर जेल भेज दिया। मेरी सुनवाई कही नही हो रही है इससे आहत होकर मेरे पास आत्महत्या करने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नही बचा। 

    नरेंद्र ने खाद्य रशद विभाग के कई बड़े अधिकारियों पर भी पैसा गबन करने का आरोप लगाया है। पीड़ित का आरोप है कि उसकी फर्म के नाम पर फर्जी एकाउंट खोलकर 1 करोड़ 25 लाख 83 रु का गबन किया गया। पीड़ित का कहना है कि उसकी पत्नी के नाम पर राजधानी में राशन आपुर्ति का टेंडर है, सरकार की ओर से गरीबो को जो राशन वितरित किया जा रहा है उस राशन वितरण का पूरा टेंडर मेरे पत्नी के नाम पर है उसी फर्म का फर्जी एकाउंट खोलकर रु निकाले जा रहे है।

  युवक ने ताल कटोरा इंस्पेक्टर पर भी मिली भगत का लगाया आरोप लगाया है। युवक ने कहा कि इंपेक्टर संजय राय ने फर्जी मामले में मुकदमा दर्ज कर मेरी पिटाई कर मुझे जेल भेज दिया गया था। खाद्य रशद विभाग के अधिकारियों की मिली भगत से यस बैंक से पैसे निकाले जा रहे है। आरएफसी नरेंद्र मिश्रा डिप्टी आरमो आदित्य सिंह व एक अन्य अधिकारी ने मिलकर पैसा निकाला है। सभी सबूत मेरे पास है न्याय न मिला तो जान देना ही मेरे पास आखिरी ऑप्शन है।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ