Subscribe Us

सूचना विभाग में पत्रकारों के साथ हो रहे भेदभाव को लेकर डीएम को सौंपा ज्ञापन

सूचना अधिकारी मातादीन व प्रचार सहायक योगेंद्र वर्मा की धांधली की शिकायत

जिलाधिकारी ने एडीएम को सौंपी जांच, कार्यवाही का आश्वासन

सत्य स्वरूप संवाददाता

इटावा। जनपद इटावा सूचना विभाग में धांधली को लेकर  इलेक्ट्रॉनिक एंड प्रिंट मीडिया वेलफेयर एसोसिएशन के बैनर तले दो दर्जन पत्रकारो ने जिलाधिकारी श्रुति सिंह से मुलाकात कर ज्ञापन सौंपा।  जिला सूचना अधिकारी मातादीन व प्रचार सहायक योगेंद्र वर्मा की जिलाधिकारी इटावा से शिकायत की गई।

   इलेक्ट्रॉनिक एंव प्रिंट मीडिया वेलफेयर एसोसिएशन के जिला अध्यक्ष डॉ प्रवीन गौतम व मीडिया प्रभारी संदीप उर्फ प्रशि कांत गौतम के नेतृत्व में दो दर्जन से अधिक पत्रकारो ने अपनी व्यथा जिलाधिकारी को बताई। उन्होंने  कहा कि इटावा जनपद में पत्रकारों के साथ सूचना विभाग में लगातार भेदभाव देखने को मिल रहा है।  उन्होंने बताया कि कई बार सूचना विभाग समाचार पत्र व टीवी चैनल की अथॉरिटी लेटर जमा करने के बावजूद पत्रकारो  के नाम सूचना विभाग की सूची में दर्ज नहीं किए जाते हैं, वहीं पत्रकारों का कहना है कि कई बार हम लोगों ने डाक रजिस्ट्री द्वारा एवं खुद सूचना विभाग में जाकर के अथॉरिटी लेटर जमा किए लेकिन अभी तक सूचना विभाग के अधिकारियों द्वारा हम लोगों के नाम सूचना विभाग की सूची में दर्ज नहीं किये गए ।

   इटावा जनपद में अभी तक सूचना विभाग की सूची में नाम दर्ज मान्यता प्राप्त पत्रकारों की संख्या 41, गैर मान्यता प्राप्त की संख्या 22 एवं जनपद से प्रकाशित समाचार पत्र व उनके संपादकों की संख्या 24 है। जब कि पूरे जनपद में पत्रकारो की संख्या इससे तीन गुना है। फर्जी पत्रकारों को फायदा पहुंचाने के लिए सूचना विभाग ने अपनी सूची में कई फर्जी नाम दर्ज कर रखे  है। जिला अध्यक्ष ने बताया कि जब भी हम लोग सूचना विभाग में जाते हैं तो जिला सूचना अधिकारी की कुर्सी पर योगेंद्र वर्मा बैठे मिलते हैं और वह हम लोगों का मानसिक उत्पीड़न करते हैं कई बार योगेंद्र वर्मा व जिला सूचना अधिकारी को कई पत्रकारों का नियुक्ति पत्र देकर के आए अखबार भी दे कर के आए लेकिन पत्रकारो की सूची में नाम नहीं लिखा  गया उन्होंने आरोप लगाया कि पत्रकारों की मीटिंग के  जिला सूचना अधिकारी और योगेंद्र वर्मा हॉल नही देते है।

    इलेक्ट्रॉनिक एंड प्रिंट मीडिया वेलफेयर एसोसिएशन के मीडिया प्रभारी प्रशि कान्त उर्फ संदीप गौतम ने आज मीडिया कर्मियों को बताया कि इटावा जनपद में सूचना विभाग में लगातार पत्रकारों के साथ अन्याय हो रहा है । हम लोगों के द्वारा कई बार सूचना विभाग में अथॉरिटी लेटर जमा किए गए लेकिन सूचना विभाग ने अभी तक हम लोगों के नाम सूचना विभाग की सूची में दर्ज नहीं किये जब हमारे साथियों के साथ कोई घटना घटित हो जाती है  अपराधी तत्व जो शराब माफिया, भू माफिया, खनन माफिया हैं पुलिस से मिलकर हम लोगों के खिलाफ खबरों से चिढकर फर्जी मुकदमे लिखा देते हैं। और अपराधी के कहने पर पुलिस भी हमें फर्जी पत्रकार बताती है और जब पुलिस सूचना विभाग से जानकारी मांगती है तो सूचना विभाग हम लोगों को पत्रकार कहने से इंकार कर देता और संबंधित अधिकारी के पास फर्जी रिपोर्ट बनाकर भेज देता है कि अमुक व्यक्ति पत्रकार नहीं है जिसकी वजह से हम लोगों पर 420 का मुकदमा लग जाता है जब कि हम कि हम लोग सालों से  लगातार  जमीनी पत्रकारिता कर रहे हैं। आज हम लोगो ने इटावा जनपद में सूचना विभाग के काली करतूतों को उजागर करने के लिए इटावा की जिलाधिकारी महोदया को ज्ञापन दिया और पूरे मामले से अवगत कराया ।

  वही इटावा डीएम श्रुति सिंह ने पत्रकारों को आश्वासन देते हुए कहा कि हम जल्द ही इस मामले की जांच एडीएम इटावा से करवाएंगे तथा दोषी पाए जाने पर सूचना विभाग के कर्मचारियों के खिलाफ जांच कर कार्रवाई की जाएगी ।

      इस मौके पर ज्ञापन के दौरान संगठन के पदाधिकारी आगरा मंडल अध्यक्ष राजीव यादव, कानपुर मंडल सचिव विनीत कुमार, वरिष्ठ जिला उपाध्यक्ष इटावा अनिल चौधरी, संजय कुमार, पवन सिंह, रिषि कान्त, अनिल कुमार, भुवनेश कुमार, आशीष यादव, आशुतोष दुबे, विकास, अवनीश गौतम, पुष्पराज, करुणानिधि, विवेक दुबे, विपिन कुमार सिंह, कुलदीप राजपूत, शारिक अंसारी, प्रकाश चौधरी, पवन सिंह, संजीव कुमार, संजय कुमार, अवनीश कुमार, सहित लगभग दो दर्जन पत्रकार साथी मौजूद रहे।

  वही इस मामले में जब जिला सूचना अधिकारी मातादीन से फोन पर बात की गई तो उन्होंने बताया कि नियुक्ति पत्र के साथ पंजीयन संख्या की प्रति व अखबार दिया जाना अनिवार्य है तभी नाम दर्ज किया जाएगा। वही प्रचार सहायक योगेंद्र वर्मा ने बताया कि मेरे ऊपर लगाए गए सारे आरोप फर्जी हैं। सूचना विभाग की सूची में नाम दर्ज करने की जिम्मेदारी जिला सूचना अधिकारी की है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ