Subscribe Us

लखनऊ : मलिहाबाद ब्लॉक में सपा-भाजपा कार्यकर्ताओं में नामांकन के दौरान तीखी झड़प

    सत्य स्वरूप न्यूज

   लखनऊ। ब्लॉक प्रमुख पद के लिए बृहस्पतिवार को सुबह 11 बजे से शुरू हुयी नामांकन प्रक्रिया के दौरान सपा व भाजपा कार्यकर्ता आमने सामने आ गए। प्रसाशन कुछ समझ पता इससे पहले दोनो पक्षों में छीना झपटी मच गई और दोनों पार्टी के कार्यकर्ता एक दूसरे पर पर्चा छीनने का आरोप लगाते हुए नारे बाजी शुरू कर दी। सूचना पर पहुचे उच्चाधिकारियों ने दोनों पार्टियों के कार्यताओं को समझा बुझा कर शांत कराया। जिसके बाद प्रत्याशियों ने अपना अपना नामांकन पत्र दाखिल किया।

   सुबह 12 बजे भाजपा प्रत्याशी निर्मल कुमार जिलाध्यक्ष श्रीकृष्ण लोधी मंडल अध्यक्ष जितेंद्र अवस्थी सहित अपने समर्थकों के साथ नामांकन पत्र दाखिल कर रहे थे। तभी सपा प्रत्याशी विद्यावती समर्थकों के साथ नामांकन करने पहुच गयी। इस दौरान दोनों पार्टियों के समर्थक नारे बाजी करते हुये एक दूसरे से भिड़ गए और पर्चा छीनने का आरोप लगाने लगे। भाजपा अनुसूचित जाति मोर्चा अवध क्षेत्र के उपाध्यक्ष विकास किशोर का आरोप था कि प्रसाशन  भाजपा प्रत्याशी के साथ प्रस्तावक व अनुमोदन को ही अंदर जाने दिया। जबकि सपा प्रत्याशी के साथ प्रस्तावक अनुमोदन सहित सपा नेता वीरेंद्र अन्य सपाइयों को की भी अंदर आने दिया जिन्होंने भाजपा प्रत्याशी से नामांकन पत्र का एक सेट छीन लिया। वही सपा समर्थक पूर्व इंदल रावत का आरोप ने आरोप लगाया कि प्रशासन की मौजूदगी में भाजपाइयों ने सपा प्रतयाशी को नामांकन करने से रोका और नामांकन पत्र का एक सेट छीन लिया।दोनों प्रत्याशियों के आरोप प्रत्यारोप का दौर लगभग एक घण्टे तक चलता रहा। जिसके बाद मौके पर पहुचे एडीएम प्रसाशन व एसपी ग्रामीण ह्रदयेश कुमार और सीओ योगेंद्र सिंह सीओ नैमुल हसन,ने सभी को समझा बुझा कर शांत कराया जिसके बाद नामांकन प्रक्रिया पूर्ण हुई।

  सहायक निर्वाचन अधिकारी सूर्यकांत त्रिपाठी ने बताया कि नामांकन प्रक्रिया के बाद शुरू हुई नामांकन पत्रों की जांच में दोनों प्रत्याशियों के नामांकन पत्र सही पाए गए दोनो प्रत्याशियों ने 2-2 सेट में नामांकन पत्र दाखिल किया।बीडीओ संस्कृता मिश्रा ने नामांकन करने के लिए आने वाले प्रत्याशियों की थर्मल स्क्रीनिंग और सेनेटाइजेशन करने के बाद ब्लॉक परिषर में एंट्री हुई साथ ही सुरक्षा की दृष्टि से बैरिकेडिंग सहित छाया, पानी आदि की चाक चौबंद व्यवस्था की गई थी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ