Subscribe Us

कस्बा व देहात में आवारा पशु से ग्रामीण बुरी तरह परेशान

   योगेश कुमार

  अजान खीरी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ आवारा पशुओं द्वारा किसानों की खेती के नुकसान को लेकर चिंतित है। इसके बाद भी किसानों की चिंता कम होने का नाम  नहीं ले रही है। योगी सरकार के 4 साल बीत जाने के बाद भी आवारा पशु खुलेआम घूमते हुए नजर आ रहे हैं। हांलाकि सरकार ने प्रदेश के हर जनपद के डीएम को निर्देश दिया ही आवारा पशुओं के लिए गौ आश्रय घर बनाया जाए और सरकार की मंशा अनुरूप गौ आश्रय बनाए गए लेकिन अधिकारियों कर्मचारियों की लापरवाही के चलते जमीनी स्तर पर देखा जाए तो सरकार का आवारा पशुओं से निजात दिलाने का वादा खोखला ही नजर आ रहा है।

   सरकार ने इस योजना पर करोड़ों रुपए खर्च कर दिए गौशाला बनवाई लेकिन खानापूर्ति के लिए आपको बता दें कि ब्लाक कुंभी क्षेत्र के अजान इमलिया ममरी सहित अनेक क्षेत्रों में आवारा पशु खेतों गांव कस्बा में खुलेआम घूमते हुए दिख जाएंगे जबकि हमने ब्लाक कुंभी क्षेत्र के मढ़िया बस्तौली में गौ आश्रय में जाकर देखा तो गायों की बदतर स्थिति मिली। ज्यादातर जानवर भूख से तड़पते मिल जाएंगे समय से उन्हें कोई चारा भी डालने वाला नहीं लगभग सभी गौशालाओं की स्थित ऐसी ही मिलेगी। आज भी सैकड़ों की तादाद में गांव गांव में आपको आवारा पशु झुंड के झुंड बनाकर खेतों में घूमते हुए जाएंगे किसानों के मुताबिक आवारा पशुओं को गौशाला स्थल पर ले कर भी जाते हैं तो वहां पर मौजूद कर्मचारी रखने से मना कर देते हैं जिससे फिर उन्हें मजबूरी में छोड़ना पड़ता है।

 तमाम किसानों का आरोप है की क्षेत्र में पशुओं को लेकर अधिकारियों द्वारा शासन के निर्देशों को अमल में नहीं लाया जा रहा है जिससे किसानों के सामने दिन प्रतिदिन परेशानी बढ़ती जा रही है आए दिन किसान पशुओं को नुकसान से बचाने के लिए। इधर-उधर डंडा लेकर खादेडते रहते हैं फिलहाल गौशाला होने के बावजूद भी बड़ी संख्या में पशु खेतों में घुसकर फसलों को नष्ट कर रहे हैं अधिकारियों से शिकायत के बाद भी कोई सुनने को तैयार नही।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ