Subscribe Us

मंगलम पेट्स क्लिनिक द्वारा आयोजित निःशुल्क रेबीज़ टीकाकरण

   सत्य स्वरूप संवाददाता

  लखनऊ। बदलते मौसम के साथ बढ़ते तापमान के दुष्परिणाम हमारे बेजुबान मूक पशुओ पर दिखता है जिससे कि पशुओं में हीटस्ट्रैस्स के साथ- साथ "रेबीज" विषाणु जनित रोग जैसे घातक जानलेवा बीमारी के लक्षण भी दिखने लग जाते है डॉ कुमार मंगलम यादव (पशु चिकित्सक) के अनुसार यह बीमारी कुत्तों से अन्य पशुओं या मनुष्य में उनके लार के माध्यम से विषाणु फ़ैल सकता है लोगो को जागरूक करने एवं कुत्ते प्रजाति को रेबीज जैसे घातक बीमारी से सुरक्षित करने के लिए एंटी रेबीज टीकाकरण का मुफ्त शिविर का आयोजन अपने सहयोगियों डॉ अश्वनी कुमार सिंह ( पशु चिकित्सक), आलोक चौरसिया, आशीष कुमार यादव, हर्ष अस्थाना, विकास कुमार मौर्य ( डॉग हैंडलर)  मंगलम पेट्स क्लिनिक के तत्वाधान के साथ साथ सबसे ज्यादा सहयोगी रहे कंटोनमेंट बोर्ड लखनऊ के सहयोग से एंटी रेबीज टीकाकरण  शिविर का आयोजन किया गया संचालित कार्यक्रम में डॉ कुमार मंगलम ने बताया कि एंटी रैबीज टीकाकरण ही इसे रोक पाने में एक सर्वोतम - प्राथमिक उपाय:है प्रोग्राम में रैबीज कैसे शरीर के लिए हानिकारक है इस विषय पर पेट्स लवर्स और पशु सेवा में  कार्यरत सामाजिक संस्थान के लोगो को जागरूक करते हुए बताया कि रेबीज संक्रमित जानवर के काटने से यह खतरनाक वायरस पेरीब्रल नर्व के माध्यम से व्यक्ति के तंत्रिका तंत्र (सीएनएस) पर हमला करते हुए ब्रेन तक पहुंच बना लेता है। पीड़ित व्यक्ति के मस्तिष्क की मांसपेशियों में सूजन आने के साथ स्पाइनल कार्ड भी प्रभावित हो जाती है। व्यक्ति में इंसेफ्लाइटिस जैसी स्थिति हो जाती है और वह कोमा में चला जाता है। यह विषाणु एक पशु से दूसरे पशु में भी डॉग बाईट के दौरान लार के माध्यम से विषाणु फ़ैल सकता है इसलिए समय समय पर एंटी रेबीज का टीकाकरण करवाना अत्यंत जरुरी होता है इसी क्रम में छावनी बोर्ड में आयोजित शिविर में पालतू पेट्स के साथ- साथ निराश्रित 63 कुत्ते प्रजाति का टीकाकरण किया गया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ