-->
सीतापुर के हरगाव में स्वास्थ्य विभाग के अजब कारनामे, अवैध तरीके से चल रहे अनेकों दवाखाने

सीतापुर के हरगाव में स्वास्थ्य विभाग के अजब कारनामे, अवैध तरीके से चल रहे अनेकों दवाखाने

   रिपोर्ट राकेश पाण्डेय

    सीतापुर। देश में फैली वैश्विक महामारी में आम जन को राहत पहुंचाने एवं जनता को अनावश्यक लूट खसोट से निजात दिलाने तथा झोलाछाप डॉक्टरों के चक्कर में पड़ कर लोगों को असमय मौत के मुंह से बचाने के उद्देश्य से शासन की पहल पर जिला प्रशासन सीतापुर ने पहल शुरू करते हुए झोलाछाप डॉक्टरों पर शिकंजा कसने के निर्देश सम्बन्धित जिम्मेदारों को दिये हैं। 

      जिले के मुखिया के निर्देश के निर्देश पर सिधौली उप जिला अधिकारी संतोष राय की अगुवाई में स्वास्थ्य विभाग की टीम गठित कर अवैध तरीके से चल रहे क्लीनिक व झोलाछाप डॉक्टरों पर शिकंजा कसा जा रहा है। गोंदलामऊ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के अधीक्षक धीरज मिश्रा ने दो अवैध रूप से चल रही क्लीनिकों को सील  कर उनके संचालकों पर विधिसम्मत कार्रवाई की।

       अफसोस जिला मुख्यालय से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र हरगांव के नाक के नीचे कई अवैध क्लीनिक व झोलाछाप डॉक्टर दवाइयों का व्यापार कर रहे हैं। अवैध रूप से संचालित यह यह क्लीनिक जमकर जनता की जेब पर डाका डाल रहे हैं। हरगांव से लहरपुर मार्ग पर ग्राम रानी फार्म में हड्डी के जोड़ों के नाम से संचालित अस्पताल धड़ल्ले से अपना धंधा चमकाने में लगा हुआ है और दोनों हाथों से मरीजों का दोहन कर रहा है। इन डॉक्टरों के यहां न तो कोविड-19 महामारी सम्बन्धित किसी नियम व गाइडलाइन का पालन ही किया जाता है और ना ही मास्क व सोशल डिस्टेंसिंग का। यहां पर कठिन से कठिन परिस्थितियों में टूटी हुई हड्डी को जोड़ने का दावा किया जाता है।

     इसी प्रकार विकास खण्ड हरगांव के सलारपुर गांव व चौराहे पर कई झोला छाप डाक्टर अवैध रूप से दुकानें एवं दवाखानें धड़ल्ले से चल रहे हैं इनके संचालकों को किसी भी प्रकार का कोई भी डर नहीं इनके दुकान पर दवाखाने पर माक्स वसेनीटाइजर की कोई व्यवस्था नहीं। 

      यही नहीं इन झोलाछाप डॉक्टरों के द्वारा बड़े से बड़े मर्ज को चुटकी में सही करने का दावा किया जाता है जिस कारण इनके यहां काफी भीड़ लगती है। 

     और तो और यहां दूर दराज से आ रहे मरीजों का इलाज भी किया जा रहा है। लगातार खबर प्रकाशन के बाद भी झोलाछाप डॉक्टरों के विरुद्ध कोई कार्यवाही ना होने से प्रशासन की कार्यशैली पर भी प्रश्न चिन्ह लगना लाजमी है।

    ग्रामीणों ने  सीतापुर मुख्य चिकित्सा अधिकारी व हरगाव सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के अधीक्षक से गुजारिश की है कि अपनी दुकान सजाए बैठे इन झोला छाप डाक्टरों व  अवैध तरीके से चल रहे दवाखानों पर विधिसम्मत कार्यवाही सुनिश्चित की जाए।

0 Response to "सीतापुर के हरगाव में स्वास्थ्य विभाग के अजब कारनामे, अवैध तरीके से चल रहे अनेकों दवाखाने"

एक टिप्पणी भेजें

Ad

ad 2

ad3

ad4