-->
रामसनेहीघाट मस्जिद प्रकरण : कमेटी पहुँची कोतवाली विवेचक को दर्ज कराए बयान

रामसनेहीघाट मस्जिद प्रकरण : कमेटी पहुँची कोतवाली विवेचक को दर्ज कराए बयान

     अवाम को उम्मीद अब जल्द ही मिलेगा न्याय

ब्यूरो रिपोर्ट

बाराबंकी। रामस्नेही घाट तहसील परिसर मस्जिद को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच के आदेशानुसार जाँच के लिए कोतवाली में विवेचक द्वारा मस्जिद कमेटी के सदस्यों को कोतवाली बुलाया गया था।
   जिसमे कमेटी के तमाम सदस्यो के अलावा बाराबंकी के कुछ समाजसेवी व बाराबंकी बार एसोसिएशन के पूर्व महामंत्री नरेन्द्र वर्मा ने कोतवाली पहुंचकर विवेचक को मस्जिद से संबंधित कागजात सौंपे। विवेचक राजेन्द्र कुमार गुप्ता ने कमेटी के सदस्यों से कागजात लेकर हस्ताक्षर कराकर जांच में सहयोग करने की बात कही,और कहा कि इस मामले की निष्पक्ष जांच होगी। बाराबंकी से पहुंचे मेहमानों का क्षेत्रीय लोगो ने जोरदार स्वागत किया।
    कोतवाली के बाहर मीडिया से रूबरू होते हुए श्री वर्मा ने बताया कि उपजिलाधिकारी रामसनेहीघाट द्वारा विगत दिनों अंग्रेजों के जमाने से कायम मस्जिद को लाकडाउन का उल्लंघन करते हुए रातो-रात गिरा दिया। विदित हो कि प्रशासन ने मामले को दबाने के लिए मस्जिद की कमेटी पर मु0अ0सं0-189/2021 अ0धारा 419, 420, 467, 468, 471 आई0पी0सी0 दर्ज किया था जिसकी विवेचना राजेश कुमार गुप्ता वरिष्ठ उपनिरीक्षक थाना रामसनेहीघाट, बाराबंकी द्वारा की जा रही है। नोटिस मिलने के बाद प्रतिनिधि मण्डल थाना रामसनेहीघाट पहुंचकर विवेचक से मिला और थाना रामसनेही घाट बाराबंकी मस्जिद प्रकरण तथाकथित मुल्जिमानों के बयान हेतु गए जंहा पर  मो0 आसिफ की मौजूदगी में विवेचक ने बयान व साक्ष्य लेकर हस्ताक्षर कराकर उचित कार्यवाही का आश्वासन दिया। उपरोक्त मुकदमें में माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद की खण्डपीठ लखनऊ द्वारा कथित अभियुक्तों की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी गई है।
श्री वर्मा ने बताया कि सम्पूर्ण मामले में क्षेत्रीय विधायक सतीश शर्मा पर्दे के पीछे से कुचक्र रच रहे हैं और प्रशासन पर दबाव बनाकर अपनी राजनैतिक रोटियाँ सेंक रहे हैं किन्तु बाराबंकी की जनता उनके मंसूबे को सफल नहीं होने देगी, चाहे इसके लिए जनता को सड़कों पर उतरना पड़े। श्री वर्मा ने हिंदू-मुसलमान से धर्म महजब को भुलाकर एक होने का संदेश दिया और कहा कि चंद कुर्सी के कीडे़ मुल्क को बरबाद करना चाहते हैं।

  वहीं बाराबंकी मोहर्रम कमेटी के अध्यक्ष ताज बाबा राइन ने कहा कि कमेटी द्वार मस्जिद से सम्बंधित सभी कागजात कोतवाली में दिए गए हैं जाँच के बाद अब आगे हाई कोर्ट का जो भी फैसला होगा हम सभी उसपर सहमत हैं।

  कामरियाबाग कब्रिस्तान कमेटी के अध्यक्ष मो नईम ने कहा कि ये मस्जिद सन 1968 से सरकारी अभिलेखों में दर्ज है जिस जमीन पर मस्जिद बनी हुई है वो जमींदार द्वारा दान में दी गयी है अगर सरकार ये साबित करदे की मस्जिद सरकारी जमीन पर बनी है तो मैं अपना दावा छोड़ दूँगा।

इस अवसर मुश्ताक अली, मो अनीस, मो0 वकील, मो0 नसीम, मो0 अफजल, मुस्तकीम आदि के साथ बाराबंकी बार एसोसिएशन के पूर्व महामंत्री एडवोकेट नरेन्द्र वर्मा, मोहर्रम कमेटी के अध्यक्ष ताज बाबा राईन, एडवोकेट मो0 आसिफ, कमारियाबाग कब्रिस्तान कमेटी के अध्यक्ष मो नईम, ईदगाह कमेटी बाराबंकी के सदस्य मो तैयब बब्बू, बुनकर समाज अध्यक्ष मुजीबुद्दीन अंसारी, समाजसेवी सलमान सिद्दीकी एवं क्षेत्र की अवाम व मीडिया से जुड़े कई सम्मानित लोग भी मौजूद रहे। विवेचक ने बताया कि नरेंद्र वर्मा एडवोकेट ने भी एक पी0आई0एल0 हाईकोर्ट में किया है उसके भी कागजात थाने पर आ चुके हैं जिसके सम्बंध में हाइकोर्ट में जल्द ही जवाब सरकारी वकील के माध्यम से प्रस्तुत किया जायेगा।

0 Response to "रामसनेहीघाट मस्जिद प्रकरण : कमेटी पहुँची कोतवाली विवेचक को दर्ज कराए बयान"

एक टिप्पणी भेजें

Ad

ad 2

ad3

ad4