-->
होम्योपैथिक दवा इग्नीशिय से ठीक हुई कोरोना की गंभीर पेशेंट

होम्योपैथिक दवा इग्नीशिय से ठीक हुई कोरोना की गंभीर पेशेंट


                        फोटो : डॉक्टर लुबना कमाल

अशहर असरार

लखनऊ। 55 वर्षीय तस्नीम फातिमा मूल रूप से फर्रुखाबाद की रहने वाली है। 2 मई 2021 को तस्नीम के भाई का देहांत हो गया जो कि कोरोना ग्रसित थे। ऑक्सीजन लेवल नीचे गिरने से उन्होंने दम तोड़ दिया जिसकी वजह से तस्नीम को गहरा सदमा लगा। इस हादसे के बाद तस्नीम के मन में डर बैठ गया जिसके बाद से उन्हें बेहद कमजोरी लगने लगी और चलना फिरना बंद कर दिया। 3 मई को उन्हें रात में अचानक से खांसी आने लगी और तेज बुखार हुआ जो कि कोरोना  के प्रारंभिक लक्षणों को दर्शा रहा था। 4 मई से उनकी हालत बहुत बिगड़ने लगी और सांस लेने में काफी दिक्कत होने लगी। जब उनका ऑक्सीजन लेवल देखा गया तो 65 निकला। यह देखकर तस्नीम की बहन उन्हें घबरा गई और उन्हें अपने घर अलीगढ़ ले आईं और वहां उन्हें अस्पताल में दिखाने के लिए ले गईं जहां पर डॉक्टर ने जांच करने के लिए बताया। 8 मई को डॉक्टरों ने उनका एचआरसीटी करवाया जिसमें उनका सीवियरिटी स्कोर 22/25 आया जो कि काफी बढ़ा हुआ था। खून की जांच भी करवाई जिसमें उनका डब्ल्यूबीसी 17,200 निकला और खून की कमी भी पता चली। उनका हीमोग्लोबिन 7.9 निकला। लिवर प्रोफाइल भी सामान्य नहीं था एसजीपीटी 76 और एसजीओटी 63 आया। जांच में एल्कलाइन फॉस्फेट भी 352 आया जो कि बढ़ा हुआ था। जांचें पता चलने के बाद तस्नीम के परिवार जन काफी परेशान हो गए। ऑक्सीजन लेवल 63 आया और उन्हें सांस लेने में तकलीफ बढ़ने लगी। परिवार जन उन्हें निजी अस्पताल ले गए जहां पर ऑक्सीजन सिलेंडर की उपस्थिति ना होने के कारण उन्हें भर्ती करने से इंकार कर दिया गया। इन सब परिस्थितियों के चलते तस्नीम व उनके परिवार जन चिंतित हो गए। 8 मई को उन्होंने होम्योपैथी चिकित्सक के लिए ढूंढा जिसके बाद उन्हें डॉक्टर लुबना कमाल के निशुल्क चिकित्सा के लिए पता चला। 

डॉक्टर लुबना कमाल व‌ उनकी छात्रा डॉक्टर रोशनी सिंह (तृतीय वर्ष)  ने मरीज से वीडियो कॉल पर बात की और उनकी दिक्कतों के बारे में पता किया जिसके बाद तस्नीम ने होम्योपैथी का इलाज लेना प्रारंभ किया। 

               फोटो : छात्रा डॉक्टर रोशनी सिंह (तृतीय वर्ष)

इलाज में पाइरोजिनम 1एम  , आर्सेनिक एल्बम 30, और एस्पीडोस्पर्मा क्यू बताया गया। जिस तरह से होम्योपैथी चिकित्सको है दवाइयां बताई मरीज ने उसी तरह से दवाइयां लेना प्रारंभ कर दिया। 9 मई को उन्होंने इलाज शुरू करा जिसके पश्चात उसी दिन उनका ऑक्सीजन लेवल 70 तक पहुंच गया। 11 मई को इलाज के चलते थोड़ा सुधार आना प्रारंभ हुआ और ऑक्सीजन लेवल 85 आया जो कि अविश्वसनीय था। धीरे-धीरे हालत सुधरती गई। 13 मई को उनकी खांसी और सांस लेने की दिक्कत में भी काफी फर्क पड़ा और मरीज को भी अब सुधार महसूस होने लगा। 13 मई को उनका ऑक्सीजन लेवल 95 ब्लड प्रेशर 146/72 और टेंपरेचर 99 आया। इलाज जारी रहा और 17 मई तक में काफी हद तक ठीक हुई और उन्हें लगने लगा कि अब वह ठीक हो रही हैं। 26 मई को उन्होंने दोबारा एचआरसीटी करवाया जिसमें उनका सिवियरिटी स्कोर 22/25 से घटकर 13/25 आ गया हालांकि थोड़ा थोड़ा संक्रमण होने के कारण दवाइयां अभी जारी है। 29 मई को उन्होंने जांच दोबारा करवाएं जिसमें उनका हीमोग्लोबिन 11.4 आया डब्ल्यूबीसी 10200 एसजीओटी 48.2 एसजीपीटी 44.4 और अल्कलाइन फॉस्फेट एस 189 आया।आज की तिथि मे वह पहले से काफी ठीक हैं और उन्हें कमजोरी भी महसूस नहीं हो रही है वह अपना काम अच्छे से कर पा रही हैं जोकि और मरीजों में मुमकिन नहीं हो पा रहा है। और मरीजों में को कोरोना से सही होने के बाद उनमें कमजोरी व अन्य लक्षण देखने को मिलते हैं। इलाज के दौरान कोई भी इमरजेंसी की जरूरत नहीं पड़ी।होम्योपैथी ने एक बार फिर चमत्कारी परिणाम दिए हैं। डॉक्टर लुबना कमाल व उनकी छात्रा डॉक्टर रोशनी सिंह कि इस मदद और निशुल्क चिकित्सा के लिए मरीज और उनके तीमारदार बहुत शुक्रगुजार हैं।

0 Response to "होम्योपैथिक दवा इग्नीशिय से ठीक हुई कोरोना की गंभीर पेशेंट"

एक टिप्पणी भेजें

Ad

ad 2

ad3

ad4