Subscribe Us

पत्रकार उत्पीड़न को लेकर संगठनों ने सैफई में किया बैठक का आयोजन


कई पत्रकार संगठनों के राष्ट्रीय अध्यक्षों ने  वीडियो कॉल के माध्यम से किया बैठक को सम्बोधित 

सरकार की छवि ख़राब कर रहे है प्रदेश के कुछ पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी 

सैफई (इटावा)। सैफई क्षेत्र के बीना में आयोजित हुई पत्रकार संगठनों की बैठक राष्ट्रीय पत्रकार संरक्षण परिषद भारत, इलेक्ट्रॉनिक एवं प्रिंट मीडिया वेलफेयर एसोसिएशन, मीडिया अधिकार मंच, ऑल इंडिया प्रेस रिपोर्टर वेलफेयर एसोसिएशन, के बैनर तले एक विशाल बैठक का आयोजन किया गया जिसमें सभी पत्रकार संगठनों के राष्ट्रीय अध्यक्षो ने पत्रकारो में जोश भरा। 

बैठक का आयोजन सैफई क्षेत्र के बीना किया गया जिसमें तमाम पत्रकार संगठनों के पदाधिकारी मौजूद रहे बैठक में पत्रकारों पर लगातार हो रहे हमले, उत्पीड़न, फर्जी मुकदमे के संबंध में विचार विमर्श किया गया।  

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये ऑल इंडिया प्रेस रिपोर्टर वेलफेयर एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष आचार्य श्रीकांत शास्त्री ने कहा कि जिस प्रकार से लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को कुचलने, दबाने, फँसाने की कोशिश की जा रही है वह देश प्रदेश के लिए ठीक नहीं बल्कि  दुर्भाग्यपूर्ण एवं निंदनीय है श्री शास्त्री ने कहा कि भारत एक विशाल लोकतंत्र वाला देश है जहां सब को अभिव्यक्ति की आजादी है इसके बावजूद मीडिया की स्वतंत्रता एवं लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को सुरक्षित नहीं रखा जा रहा उन्होंने कहा के संविधान की भावना को बाधित करने प्रयास खेदजनक है। 

इलेक्ट्रॉनिक एवं प्रिंट मीडिया वेलफेयर एसोसिएशन (भारत)  के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुशील कुमार ने कहा कि उत्तर प्रदेश के तमाम जिलों के पुलिस अधिकारी अपनी गड़बड़ियों को छिपाने के लिए पत्रकारों पर फर्जी ढंग से मुकदमे दर्ज करवा कर सरकार की छवि धूमिल कर रहे हैं सुशील कुमार ने आगे कहा कि जिस प्रकार से अधिकारियों द्वारा मीडिया को धमकी दी जा रही है और पत्रकारों को परेशान किया जा रहा वह घोर निंदनीय है। उन्होंने फिरोजाबाद जिले के नायब तहसीलदार आशीष त्रिपाठी द्वारा अमर उजाला के पत्रकार अरविंद जैन से अभद्रता करने के मामले की मुकदमा दर्ज करने की मांग की।  उन्होंने कहा है कि प्रदेश में पत्रकारों का उत्पीड़न किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने मुख्यमंत्री व महामहिम राज्यपाल से आग्रह करते हुए कहा कि इस तरह की घटनाएं व स्वयं संज्ञान लें और गलत हो रहे कार्यों पर रोक लगाएं ताकि पत्रकारों को बिना किसी खतरे और दबाव के काम करने के लिए अनुकूल वातावरण मिल सके।  

राष्ट्रीय पत्रकार संरक्षण परिषद भारत के राष्ट्रीय अध्यक्ष आचार्य बृज किशोर दीक्षित ने कहा कि देश के कुछ प्रदेशों में प्रेस की स्वतंत्रता को बाधित करने का प्रयास देश के पत्रकारों को स्वीकार नहीं है देश के उन प्रदेशों की सरकारों को इस तरह के मीडिया विरोधी मानसिकता से परहेज करना चाहिए और राष्ट्र को मीडिया को राष्ट्रहित में बिना किसी जोर दबाव के अपने कार्य को करने की आजादी मिलना चाहिए उन्होंने कहा कि देशभर में सरकार पत्रकार सुरक्षा कानून का गठन करें और मीडिया कर्मियों की सुरक्षा के लिए जनर्लिस्ट प्रोटेक्शन एक्ट किए बनाया जाए ताकि पत्रकारों  पर हमले में कमी आ सके। 

 मीडिया अधिकार मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष सतेंद्र सेंगर  ने कहा कि देश भर में पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर मीडिया काउंसलिंग व मीडिया कमीशन का गठन हो सरकार द्वारा अगर इस संबंध में हमारी मांगों को स्वीकार नहीं किया गया तो देश भर में सभी पत्रकार संगठन एकत्रित होकर सरकार के विरुद्ध आंदोलन करेंगे उन्होंने कहा कि सभी देश भर के पत्रकार संगठन पत्रकार सुरक्षा कानून को और काउंसिल कमीशन के गठन की मांग को लेकर भारत सरकार को पत्र लिखें और और जिले के माध्यम से ज्ञापन भेजें। 

 राष्ट्रीय पत्रकार संरक्षण परिषद भारत के राष्ट्रीय प्रभारी व इलेक्ट्रॉनिक एवं प्रिंट मीडिया वेलफेयर एसोसिएशन के प्रदेश संयोजक सुघर सिंह ने कहा कि प्रदेश भर में पत्रकार उत्पीड़न की बहुत शिकायतें आ रही हैं जो बहुत ही निंदनीय है उन्होंने मुख्यमंत्री को इस संबंध में पत्र भी लिखा है जिसमें कहा गया कि बेलगाम अधिकारी सरकार को बदनाम कर रहे है और दलालों व खनन माफियाओ के इशारे पर पुलिस से पत्रकारों का उत्पीड़न कर रहे हैं जिस पर रोक लगाई जाए उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री व पुलिस के उच्च अधिकारी लगातार जिले के पुलिस अधिकारियों को निर्देश देते रहते हैं कि पत्रकारों को सम्मान व सुरक्षा दी जाए उसके बावजूद भी प्रदेश के कई जिलों के अधिकारी लगातार पत्रकारों का उत्पीड़न कर रहे है। उन्होंने आगाह किया कि अगर किसी भी पत्रकार का उत्पीड़न हुआ  प्रदेश भर के तमाम पत्रकार संगठन उक्त जिले में जहां के पत्रकार का उत्पीड़न होगा उसी जिले में प्रदेश भर के पत्रकार पदाधिकारी पहुंचकर डेरा डालो डेरा डालो आंदोलन  करेंगे उन्होंने कहा कि आज सैफई क्षेत्र के बीना में जो विभिन्न पत्रकार संगठनों के पदाधिकारी एकजुट होकर इकट्ठे हुए हैं इससे संगठनों को बल मिलेगा उन्होंने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए पत्रकारों को संबोधित करने के लिए राष्ट्रीय अध्यक्ष आचार्य श्री कांत शास्त्री जी आचार्य बृज किशोर दीक्षित जी,  सुशील कुमार को बधाई दी। 

 कार्यक्रम का संचालन इलेक्ट्रॉनिक एवं प्रिंट मीडिया वेलफेयर एसोसिएशन भारत के इटावा जिला अध्यक्ष डॉ प्रवीण कुमार ने किया उन्होंने सभी पत्रकारों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि अगर किसी पत्रकार का उत्पीड़न होता है तो उसमें स्थानीय पत्रकारों की भी मुख्य भूमिका होती है पत्रकार कोई छोटा बड़ा नहीं होता है पत्रकार सभी एक जैसे होते हैं और जब तक सभी एक दूसरे को समान नहीं समझेंगे और छोटा बड़ा समझेंगे तब तक पत्रकारों का उत्पीड़न जारी रहेगा उन्होंने कहा कि पत्रकारों का उत्पीड़न करने वाले अधिकारियों के विरुद्ध शीघ्र ही मोर्चा खोला जाएगा। 

 बैठक में पत्रकार रौली यादव, अनिल कुमार, अखिलेश कुमार, संजय कुमार, केपी चौहान, विमल दिवाकर, भूपेंद्र कुमार नीरज, राजीव यादव, विनीत कुमार, सुनील कुमार, शिव ओमकारा मिश्रा, ऋषिकांत दुबे करहल, पंकज चौहान, सनोज तिवारी, भुवनेश कुमार, रोहित यादव, इशू खान, डॉ मनोज वर्मा मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ