-->
पुलिस विभाग व परिवहन विभाग ( A.R.T.O.) की मिली भगत से डग्गामार वाहनों की पौ-बारह राजस्व को लग रहा चूना

पुलिस विभाग व परिवहन विभाग ( A.R.T.O.) की मिली भगत से डग्गामार वाहनों की पौ-बारह राजस्व को लग रहा चूना

    रिपोर्ट राकेश पाण्डेय

     सीतापुर। जनपद की तहसील मिश्रिख मुख्यालय पर स्थानीय प्रशासन की उदासीनता के चलते डग्गामार वाहनों की पौ-बारह है।

     यहां पर तैनात कोतवाल की खाऊ कमांऊ नीतियां डग्गामार वाहनों के लिए वरदान साबित हो रही है । यात्री त्रस्त और पुलिस मस्त वाली कहावत पूरी तरह से चरितार्थ हो रही है । परिवहन विभाग द्वारा निर्धारित नियमों की धज्जियां पुलिस संरक्षण में उड़ाई जा रही है ।

     ज्ञातब्य हो यहां नगर से जाने वाले मिश्रित मछरेहटा मार्ग , सीतापुर हरदोई मार्ग , मिश्रित कुतुब  नगर मार्ग , मिश्रित आंट मार्ग , मिश्रित  सिधौली मार्ग , मिश्रित नैमिषारण्य मार्ग आदि मार्गो पर धड़ल्ले से लग भग 300 डग्गामार वाहन विक्रम टैक्सी , लोडर डाला , टाटा मैजिक आदि प्रति हप्ते की दर से निर्धारित सुविधा शुल्क मिश्रित कोतवाली पुलिस को देकर खुले आम खर्राटे भर रहे है । यहां के मार्ग पर दौड़ने वाले इन वाहनों में अधिकांश वाहनों का रजिस्ट्रेशन समाप्त हो जाने के बावजूद भी क्षमता से दोगुनी सवारियां लादकर जिम्मेदारों के संरक्षण में फर्राटे भरते दिन में किसी भी समय देखे जा सकते है ।

    गौरतलब हो कि यम दूत बनकर मार्गों पर दौड़ने वाले इन अवैध डग्गामार वाहनों में अधिकांश वाहनों का जहां रजिस्ट्रेशन समाप्त हो चुका है । वहीं इन वाहनो के ड्राइवरों के पास ड्राइविंग लाइसेंस तक नहीं है, तो कैसे करते होंगे ट्राफिक नियमों का पालन ? आए दिन वाहन चेकिंग का नाटक रचने वाले कोतवाल सिर्फ दो पहिया वाहन स्वामियों को अपना निशाना बनाकर उनका शिकार करते है,और यम दूत बनकर यहां के मार्गो पर फर्राटा भरने वाले इन डग्गामार वाहन इनको नहीं नजर आ रहे हैं या यूं कह लीजिए इनको यह बरदान प्रदान कर रहे है । 

      अगर जनपद के पुलिस मुखिया द्वारा इस बात की निष्पक्षता से जांच करा ली जाए तो सारी कलई खुद-व-खुद खुलकर सामने आ जाएगी । जिला प्रशासन व प्रदेश शासन को इन डग्गामार वाहनों  की निष्पक्षता से जांच करा ली जाय । तो शायद आज तक एक भी डग्गामार वाहन का चालान नहीं किया गया है । इस लिए प्रदेश शासन को इन डग्गामार वाहनों की तरफ गंभीरता से पहल करने की आवश्यकता है ।  ताकि निर्धारित टैक्स , रोड टैक्स और लाइसेंस शुल्क को चूना लगाने वाले इन वाहनों और इनके चालको के चेहरे बेनकाब होकर सामने आ जाएगे । और सरकार को भारी भरकम राजस्व का इजाफा होगा।

0 Response to "पुलिस विभाग व परिवहन विभाग ( A.R.T.O.) की मिली भगत से डग्गामार वाहनों की पौ-बारह राजस्व को लग रहा चूना"

एक टिप्पणी भेजें

Ad

ad 2

ad3

ad4