Subscribe Us

राठ रोड की बहुचर्चित बालू डंप पर एडीएम की जांच में निकली 11420 मीटर ज्यादा बालू, लगेगा 9000000 का जुर्माना

 


सत्य स्वरूप न्यूज़ नेटर्क

उरई जालौन। डीएम के निर्देश पर जनपद मुख्यालय उरई के राठ रोड पर स्थित एक चर्चित बालू डंप पर एडीएम पूनम निगम ने दल बल के साथ की जांच की थी तो तीन परमिट धारकों के बालू के डंप में मानक से 11420 घन मीटर बालू अधिक पाई गई थी। जिसके बाद तीनों डंप परमिट धारकों को एडीएम पूनम निगम ने कई दिन पहले नोटिस जारी कर दिया था। अब जांच करने जो मानक से अधिक डंप बालू का आकलन किया है उसमें प्रशासन तीनों परमिट धारकों को 90 लाख रुपए जुर्माना करने की तैयारी कर रहा है। इस संबंध में एडीएम पूनम निगम ने बताया की तीनो बालू धारकों के पास जो 11420 घन मीटर बालू अतिरिक्त पाई गई है उसका जुर्माना करीब 9000000 रुपए बनता है जो उनसे वसूला जाएगा।

मालूम हो कि एडीएम के नेतृत्व में राठ रोड के चर्चित बालू डंप स्थल के एक प्रसिद्ध ढाबे के सामने सड़क पार स्थित है वहां एडीएम के साथ पहुंचे जांच दल ने स्वीकृत डंप बालू धारक विनय कुमार सोनी पुत्र प्रभु दयाल सोनी निवासी उरई जहां बालू डंप है वह मौजा मोखरी में है जिसकी गाटा संख्या 291/3 है जिस में स्वीकृत बालू दम का लाइसेंस 30000 घन मीटर का है लेकिन जांच में 3966 घन मीटर बालू ज्यादा मिली थी ।इसी तरह डंप नंबर 14 जो रवि पंजवानी पुत्र श्री भगवानदास पंजवानी निवासी उरई बालू जहां डंप है वह मौजा मोखरी संख्या 291/ 1 है। इसमें जांच के दौरान स्वीकृत लाइसेंस के 30000 घन मीटर की जगह 6189 घन मीटर बालू ज्यादा पाई गई इसी तरह डंप संख्या 15 जो दीप्ति गुप्ता धर्म पत्नी कपिल रेंजा के नाम से बालू डंप का लाइसेंस स्वीकृत है वह निवासी उरई की है तथा मौजा मॉखरी जहां बालू डंप है वह गाटा संख्या 291/4 है इसमें जांच के दौरान1265 बालू अधिक पाई गई कुल मिलाकर तीनों डेम्पो में 11, 420 बालू अधिक पाई गई जांच दल ने आकलन करके तीनों पट्टा धारकों पर 90 लाख रुपए का जुर्माना करने की तैयारी की है उधर जिले के कुल 9 बालू खनन पट्टा धारक है। इनमें से कुछ पट्टा धारकों ने नाम ना छापने की शर्त पर यह बताया कि खनन अधिकारी अपने चचेरे साले मयंक के साथ इस बालू डंप की खेल में स्लीपिंग पाटनर बने हुए हैं उन्होंने सभी नौ पट्टा धारकों से 2 -2 सौ ट्रक बालू इस चर्चित बालू डंपर में फ्री बालू डालने के मौखिक किंतु कड़े आदेश दे दिए थे जिसके चलते हर पट्टा धारक को दो दो सौ यानी कुल 18 सौ ट्रक बालू इस चर्चित बालू डंप में फ्री में डालना पड़ा। अगर इस आरोप की गहनता से जांच हो जाए तो खनन अधिकारी और उसका साला जेल के सलाखों के पीछे हो सकते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ