-->
लुटेरे अस्पतालों पर योगी सरकार का एक्शन शुरू, बाराबंकी इस अस्पताल सहित 10 हॉस्पिटलों का लाइसेंस निरस्त

लुटेरे अस्पतालों पर योगी सरकार का एक्शन शुरू, बाराबंकी इस अस्पताल सहित 10 हॉस्पिटलों का लाइसेंस निरस्त

  सचिन कुमार श्रीवास्तव

  लखनऊ। कोरोना काल में मरीजों से मनमाने रेट वसूलने व दूसरी गड़बड़ियां करने वाले अस्पतालों पर गाज गिरनी शुरू हो गई है। ऐसे 10 अस्पतालों का लाइसेंस निरस्त कर दिया गया है और नौ के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी गई है। अब इन मामलों में संबंधित जिलों के डीएम व सीएमओ से जवाब तलब किया जाएगा। साथ ही दोषी पाए गए अस्पताल संचालकों से वसूली भी होगी। इस बार के कोरोना कालखंड में निजी अस्पतालों पर मनमानी रेट मरीजों से वसूलने, इलाज में लापरवाही बरतने, दुर्व्यवहार करने, ऑक्सीजन की कृत्रिम कमी बताने व अन्य अनियमितताओं के आरोप लगे हैं। अब तक 33 जिलों से इस तरह की 184 शिकायतें आईं हैं। इनकी जांच में 68 शिकायतें सही पाई गईं। इस आधार पर 117 मामलों में नोटिस दी गई। जांच के बाद कार्रवाई शुरू हो गई है। कई मामलों में मरीजों से वसूली गया ज्यादा पैसा वापस कराया गया तो कई जगह लाइसेंस निरस्त किया गया। आगरा के एक अस्पताल को कोविड अस्पताल से डिबार किया गया। उससे 80 हजार रुपये मरीज को वापस कराए गए। आगरा के कई अस्पतालों को मरीजो से ज्यादा वसूली गई फीस लौटानी पड़ी। 

इन अस्पतालों के खिलाफ हुई एफआईआर

 आस्था अस्पताल, बस्ती (आरोपी जेल भेज  गए) शिवा अस्पताल बस्ती, बिल्लाह हॉस्पिटल बुलंशहर,कृष्ण सुपर स्पेशलिटी , फैमली अस्पताल , तुलसी अस्पताल व फार्च्यून कानपुर, आस्था अस्पताल बाराबंकी ,दिव्यांशु अस्पताल जौनपुर  , दो अपंजीकृत चिकित्सक, मेरठ।

0 Response to "लुटेरे अस्पतालों पर योगी सरकार का एक्शन शुरू, बाराबंकी इस अस्पताल सहित 10 हॉस्पिटलों का लाइसेंस निरस्त"

एक टिप्पणी भेजें

Ad

ad 2

ad3

ad4