-->
पलिया पुलिस का कारनामा,बिना जांच पड़ताल किए ही भेज दिया जाएगा जेल

पलिया पुलिस का कारनामा,बिना जांच पड़ताल किए ही भेज दिया जाएगा जेल

   ब्यूरो चीफ़ अंकुल गिरी

   लखीमपुर जिले में अधिकारियों के कुशल निर्देशन में जिले की पुलिस ने काम करने का तरीका अब बदल दिया है। पुलिस कर्मी अगर बिना मास्क के हैं और आपने मास्क न लगाने का कारण पूंछा तो आपका मोबाइल छीनकर फेंक देगी पलिया कोतवाली पुलिस अगर आपने कोतवाली में तहरीर दी तो बिना जांच कराए ही एक घण्टे में लूट का मुकदमा दर्ज कर जेल भेज देगी पुलिस। वही छोटे दुकानदार ने अगर लॉकडाउन का उलंघन किया तो हवालात के दर्शन कराए जाते हैं और अगर कसी शोरूम के मालिक ने लॉकडाउन का उलंघन किया तो उससे कमाऊ पूत समझकर मीठी-मीठी बातें करती देखी जाती है पुलिस। लोगों से भी अपील की अगर आपकी लूट की तहरीर कई दिनों से थानों में पड़ी हैं तो अब निराश होने की जरूरत नहीं है। अब जिले में एक घण्टे के अंदर लूट की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया जाएगा और तुरंत कार्रवाई होगी। मामला तो तब सामने आया जब एक इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के वरिष्ठ पत्रकार के पुत्र को किसी बात को लेकर रात के अंधेरे में एक गिरोह ने उस पर लाठी डंडों से धावा बोल दिया वहीं मौजूद पत्रकार के पुत्र ने किसी तरह से अपनी जान बचाते हुए दुकान की तरफ भागा। और अपने परिवार को सूचना दी सूचना मिलते ही मौके पर पहुंचे परिजनों ने पुलिस को सूचना देते हुए कार्रवाई करने के लिए कहा। लेकिन देर रात को ऐसा क्या हुआ कि पलिया कोतवाल बिना जांच पड़ताल किए ही पत्रकार के पुत्र को पकड़ कर जेल भेज दिया। वही जैसे ही यह खबर मीडिया के लोगों को पता चली मीडिया कर्मियों में पलिया कोतवाल और कोतवाली के एक दरोगा के खिलाफ काफी आक्रोश  बढ़ने लगा। वही पत्रकार के परिजनो का आरोप था कि हमारे पुत्र के साथ मारपीट कर सोने की चेन छीना गया है। लेकिन पलिया पुलिस पत्रकार के पुत्र को ही दोषी ठहराते हुए उलटा उसी के उपर लूट का मुकदमा दर्ज कर दिया वह रे पुलिस। एक और मजे की बात पत्रकार यदि अपने साथी की मदद के लिए कोतवाली पहुंचते हैं तो पत्रकारों को सम्मान देना तो दूर की बात है उनको कोतवाली के अंदर देख एक दरोगा अनिल कुमार राजपूत सारी मरियादाओ की हदें पार कर लुटेरा जैसा अप्शब्द कह कर   मीडिया को बदनाम करने की कोशिश कर रहा हैं। क्या जिले के अधिकारी ऐसे लोगों पर कोई कार्रवाई करेंगे। पुलिस के इस रवैये से पत्रकारों में भारी रोष व्याप्त है, डीजीपी और सीएम से मामले की शिकायत करेंने का मन बनाया है।

0 Response to "पलिया पुलिस का कारनामा,बिना जांच पड़ताल किए ही भेज दिया जाएगा जेल "

एक टिप्पणी भेजें

Ad

ad 2

ad3

ad4