Subscribe Us

रामसनेहीघाट मस्जिद के घटनास्थल पर जाते समय कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू गिफ्तार

ब्यूरो सगीर अमान उल्लाह

बाराबंकी। भाजपा सरकार पूरी तरह से निरंकुश और तानाशाह हो गयी है तहसील रामसनेहीघाट मे सौ साल पुरानी मस्जिद को ध्वस्त करके सरकार ने साबित कर दिया है कि उसका कानून व अदालत पर कोई विश्वास नही है। मस्जिद ध्वस्तिकरण के सारे पहलू सामने आये और दोषियो को उनके अमानवीय कार्य की कडी सजा मिले जिससे प्रदेश में भाईचारा कायम रहे इसके लिये सरकार सम्पूर्ण प्रकरण की जांच उच्च न्यायालय के सेटिंग जज से कराये।

उक्त मांग उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू विधायक ने आज तहसील रामसनेहीघाट में प्रशासन द्वारा सौ साल पुरानी मस्जिद के जबरन गैर कानूनी तरीके से गिराये जाने पर मौके पर कांग्रेसजनो पूर्व राज्यसभा सदस्य, छत्तीसगढ प्रभारी डा0 पी0एल0 पुनिया, पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी के साथ जाते वक्त सागर इंस्टीट्यूट पर प्रशासन द्वारा रोककर गिरफ्तार किये जाने पर  प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को प्रशासन ने रोककर गिरफ्तार करके जनपद की सीमा पर छोडकर राजधानी की ओर रवाना कर दिया। प्रशासन द्वारा तहसील रामसनेहीघाट मे ध्वस्त मस्जिद की हकीकत से रूबरू न होने और रोककर गिरफ्तार किये जाने की तीव्र निन्दा करते हुये प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि जनपद बाराबंकी की तहसील रामसनेहीघाट मे सुन्नी वक्फ बोर्ड में दर्ज सौ साल पुरानी मस्जिद जो जमींदारो की जमीन पर बनी थी, तहसील प्रशासन द्वारा तानाशाही तरीके से जमींनदोज कर दी गयी ऐसा करके तहसील प्रशासन ने गैर जिम्मेदाराना काम किया है। वर्तमान समय मे लाकडाउन तथा कोविड महामारी के चलते माननीय उच्च न्यायालय के स्पष्ट निर्देश है कि किसी प्रकार की बेदखली तथा ध्वस्तीकरण की कार्यवाही न की जाये लेकिन तहसील प्रशासन रामसनेहीघाट ने ऐसे नाजुक समय में मस्जिद के ध्वस्तीकरण की कार्यवाही करके मा0 उच्च न्यायलय के आदेशो का उल्लंघन किया है और मस्जिद में रखा सामान गायब या फेकवाकर गैर जिम्मेदाराना कार्य किया है उत्तर प्रदेश के कांग्रेसजन भाजपा सरकार तथा प्रशासन द्वारा किये गये इस अमानवीय कृृत्य की घोर निन्दा करते है और एक स्वर में मांग करते है कि तहसील रामसनेहीघाट मस्जिद ध्वस्तीकरण प्रकरण के सम्पूर्ण जांच मा0 उच्च न्यायालय के सेटिंग जज से करवायी जाये जिससे सम्पूर्ण प्रकरण की सत्यता सामने आये और जब तक जांच पूरी न हो तहसील प्रशासन को निलम्बित करे जिससे जांच प्रभावित न हो सके। जांचोपरान्त दोषियो पर अभियोग पंजीकृृत कर कडी कार्यवाही करे।

प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के साथ रामसनेहीघाट कूच करने वाले तथा गिरफ्तारी देने वालो में मुख्यरूप से पूर्व सांसद एवं छत्तीसगढ राज्य के प्रभारी डा0 पी0एल0 पुनिया, पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी, प्रदेश कांग्रेस अनुसूचित जाति विभाग मध्य जाने के अध्यक्ष तनुज पुनिया, कांगे्रस अध्यक्ष मो0 मोहसिन, पूर्व विधायक राजलक्ष्मी वर्मा, राजेन्द्र वर्मा फोटोवाला, युवक कांग्रेस के अध्यक्ष सिकन्दर अब्बास रिजवी, जयंत गौतम, सिद््दीक पहलवान, इरफान कुरैशी, के0सी0 श्रीवास्तव, श्रीमती गौरी यादव, रामहरख रावत, मुईनुद््दीन अंसारी, मुब्बिशर अहमद, अखिलेश वर्मा, अजय रावत, विशाल वर्मा, अम्बरीश रावत, आरिफ करपिया, अजीत वर्मा, सिद््दीक चैधरी, गुड्डू गौतम, श्रीकान्त मिश्रा सहित दर्जनो की संख्या मे कांग्रेसजन थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ