Subscribe Us

सफाई कर्मी की मनमानी से ग्रामवासी गंदगी में गुजर बसर करने को मजबूर


रिपोर्ट राकेश पाण्डेय

    सीतापुर (हरगांव)। स्थानीय विकास खण्ड क्षेत्र की एक गांव के वाशिंदे सफाई कर्मचारी की उदासीनता के चलते गन्दगी के ढ़ेर पर रहने को मजबूर हैं।

      जानकारी के अनुसार विकास खण्ड हरगांव की ग्राम पंचायत सलारपुर में सफाई कर्मी की हठधर्मिता मनमानी के चलते ग्राम वासी गन्दगी के बीच रहने को विवश हैं। सफाई कर्मी की लापरवाही के कारण गांव की सफाई व्यवस्था नदारद है गांव में लगभग दो माह से सफाई कर्मी नहीं पहुंचा । सफाई कर्मी के न पहुंचने से नालियां चोक पड़ी हैं नालियों में कीड़े बजबजा  रहे हैं लोग अपने आप सफाई कर रहे हैं जिसकी वजह से कूड़े के ढेर जगह जगह लगे हैं। गांव की मुख्य सड़क पर गन्दा पानी बह रहा है यह गन्दा पानी बीमारी को दे रहा है।

       वर्तमान में कोरोना जैसी महामारी चल रही है ऐसे में सरकार लगातार साफ सफाई व्यवस्था के निर्देश दे रही है। सफाई कर्मी के न आने से स्वच्छता अभियान की धज्जियां उड़ रही हैं। गंदगी होने के कारण मच्छरों की तादाद बढ़ती जा रही है मलेरिया जैसे बुखार की आशंका बनी हुई है, वैसे भी गंदगी को देखते हुए बुखार से लगभग हर आदमी जूझ रहा है।

    सूत्रों से ज्ञात हुआ महिला सफाई कर्मी ग्राम मुद्रासन की निवासी मीना देवी हैं यह अपनी अपनी मनमानी करने पर उतारू हैं । यह स्वच्छ भारत मिशन को पलीता लगाने में मस्त है । सफाई कर्मी मीना देवी पर गांव वालों का आरोप है की सफाई कर्मी किसी मजदूर को लेकर कभी कभार महीने में एक दो बार आती थी और आकर 10 से 15 फुट नाली साफ करा देती थी लेकिन अब वह काफी दिनों से नहीं आ रही हैं। जिसकी वजह से गांव की सारी नालियों चोक पड़ी है कीड़े बज बजा रहे हैं कूड़े के ढेर लगे हुए हैं आरसीसी पर निकलना दूभर हो रहा है क्योंकि आरसीसी पर गंदा पानी बह रहा है जो नई नई बीमारियों को दावत दे रहा है। 

      गांव का नजारा देखने से स्पष्ट होता है कि सफाई कर्मी को शायद ग्राम प्रधान व ब्लॉक स्तर के अधिकारियों का संरक्षण प्राप्त है । क्या इसी वजह से सफाई कर्मी नहीं आती ग्राम वासियों ने हरगांव ब्लॉक के उच्च अधिकारियों से यह मांग की है की ग्राम सलारपुर की सफाई व्यवस्था दुरुस्त कराने की मांग की है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ