Subscribe Us

हाई कोर्ट के आदेश को दरकिनार कर ढहाई गयी मस्जिद - जफर अंसारी

सत्य स्वरूप ब्यूरो सगीर उल्लाह

बाराबंकी। प्रशासन द्वारा रामसनेहीघाट तहसील परिसर में स्थित 100 साल से भी पुरानी मस्जिद को ढहाये जाने का मामले तूल पकड़ता जा रहा है। समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष हाफिज अयाज सहित कई पार्टी के नेताओं ने मस्जिद को गिराए जाने का विरोध किया है।

पीस पार्टी के नेता ज़फर अंसारी ने कहा है कि कोरोना महामारी तो देखते हुए  कोर्ट ने 31 मई तक प्रदेश में कोई भी कार्यवाही करने से कोर्ट ने मना किया है लेकिन उसके बावजूद भी डीएम एसडीएम व पूरा पुलिस प्रशासन एक मस्जिद को शहीद करने के लिए 1 किलोमीटर का घेरा बनाकर रातो रात 100 साल से भी पुरानी मस्जिद को चंद घंटों में शहीद करके उसका मलबा भी गायब करा दिया। पीस पार्टी के नेता जफर अंसारी ने आगे कहा आखिर प्रशासन को इतनी जल्दी क्यों है जबकि पूरा प्रदेश और पूरा देश करोना फेस टू की जबरदस्त चपेट में है। यहां तक के अस्पताल में बेड, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन, दवाई नहीं है। और यहां तक के गंगा नदी में लाशें बह रही हैं प्रशासन के लोग इसपर कोई सुनवाई नही करेंगे, बजाएं प्रशासन को इस वक्त करोना से लोगों की जान बचाने के पूरा ख्याल रखना चाहिए मगर शासन प्रशासन एक मस्जिद को शहीद करने में लगा हुआ था। जब कि ऐसी आपदा की घड़ी में जेलों में बंद लोगों को भी छोड़ दिया जाता है लेकिन अफसोस के साथ कहना पड़ रहा है कि इस आपदा की घड़ी में भी यूपी की मौजूदा सरकार तानाशाही रुख अख्तियार किये हैं बाराबंकी जिला गंगा जमुना तहजीब के नाम से जाना जाता हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ