Subscribe Us

शादी की खुशियां मातम में हुई तब्दील,हर तरफ शोक का माहौल

   रिपोर्ट राकेश पाण्डेय

   सीतापुर। जनपद की तहसील बिसवां की कोतवाली बिसवां के अन्तर्गत ग्राम मोच कलां में शादी की खुशियां उस समय मातम में तब्दील हो गईं जब बरात में दुल्हन की जगह दूल्हे के रिश्तेदारों की अर्थियां घर वापस लौटी।हर तरफ हाहाकार मच गया।जिसने घटना के बारे में सुना वो अवाक रह गया।गांव के लोगों में शोक की लहर दौड़ गई।

    मामला शुक्रवार देर रात का है जब कोतवाली बिसवां के ग्राम मोच कलां निवासी रामप्रताप पुत्र उमराव के 20 वर्षीय बेटे अखिलेश की बारात थाना कमलापुर के ग्राम हनुमान पुर निवासी राजेंद्र के घर पहुंची।

   शादी की रस्में चल रही थीं।नाश्ता खाना हो रहा था अचानक आंधी का एक झोंका आया और विद्युत लाइन के नीचे लगे टेंट को उड़ाने की कोशिश की।जिससे टेंट के खंभों में भी करंट दौड़ गया। करेंट की चपेट में आकर सात लोग गम्भीर रूप से घायल हो गए। परिजन आनन फानन में सभी को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र कसमंडा ले गए। चिकित्सकों ने परीक्षण के बाद सभी को इलाज के लिए जिला अस्पताल सीतापुर  रेफर कर दिया । लेकिन अस्पताल पहुंचते पहुंचते रास्ते में ही चार व्यक्तियों दूल्हे के फूफा 40 वर्षीय राधे पुत्र कल्लू निवासी ग्राम इश्वरीपुरवा थाना बिसवां, दूल्हे के चाचा 36 वर्षीय मायाराम पुत्र उमराव निवासी ग्राम मोच कलां थाना बिसवां, दूल्हे के मामा 35 वर्षीय राम औेतार पुत्र निंजा निवासी गोवर्धनपुर थाना मानपुर एवं रामचन्द्र पुत्र अज्ञात निवासी थाना कमलापुर की मौत हो गई। वहीं दूल्हे के पिता रामप्रताप समेत दो अन्य की हालत गम्भीर बताई जा रही है।

     शनिवार को सुबह लगभग सवा ग्यारह बजे जब पोस्टमार्टम के बाद मायाराम का शव उसके गांव मोच कलां पहुंचा तो हाहाकार मच गया हर तरफ से चीखने चिल्लाने की आवाजे आने लगी।पूरे गांव के लोगो में मातम छा गया। मौके पर नायब तहसीलदार,लेखपाल एवं प्रभारी निरीक्षक ओम प्रकाश तिवारी अपने पुलिस फोर्स के साथ पहुंच गए। नायब तहसीलदार ने परिवार से मृतकों का ब्योरा इकट्ठा कर जल्द ही परिवार को आर्थिक सहायता दिलाने की बात कही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ