Subscribe Us

हरगाँव नगर क्षेत्र में कोविड लाँक डाउन की खुलेआम उड़ायी जा रही हैं धज्जियां, जिम्मेदार मौन

  रिपोर्ट राकेश पाण्डेय

 सीतापुर(हरगांव)। जनपद की आदर्श नगर पंचायत हरगांव सीमान्तर्गत जिम्मेदारों की उदासीनता के चलते लाक डाउन की जमकर धज्जियां  नगर के चुनिंदा व्यापारियों व बैंकों के द्वारा उड़ाई जा रही हैं, और जिम्मेदार लोग किसी बड़ी घटना घटित होने का बड़ी बेशब्री से इंतजार कर रहे हैं। दुकानों व बैंकों में आने लोगों के पास अधिकतर  न तो किसी के पास मास्क होते हैं और न ही इन लोगों के द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन ही किया जाता है । 

     प्राप्त जानकारी के अनुसार हरगांव थाना क्षेत्र में  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  व मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ एवं जिला अधिकारी सीतापुर विशाल भारद्वाज  लगातार कोविड 19 महामारी में लोगों की समस्याओं का समाधान व लोगों से सम्पर्क कर रहें है । नागरिकों को शासन व प्रशासन के द्वारा लगातार मास्क का इस्तेमाल तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए जागरूक किया जा रहा है।वही हरगाँव नगर पंचायत के व्यापारी लोग अपनी दुकानों के आगे भारी भीड़ व मुख्य मार्ग पर आधी रोड पर अक्सर जाम लगाकर मुख्यमंत्री के कार्यों पर लगातार पलीता लगाया जा रहा है। हम बात करते हैं हरगाँव गंज बाजार में सीतापुर लखीमपुर रोड पर पड़ने वाली परचून की दुकानों की जहां पर भीड़ हमेशा लगी रहती है। इस भीड़ में अधिकतर लोगों के पास न तो मास्क होते हैं और न ही यह लोग सोशल डिस्टेन्सिंग का ही पालन करते हैं।

      कमोवेश यही स्थिति लहरपुर रोड पर स्थित कमला पसंद व बहार  एजेंसी की है, जहां पर इन एजेंसी के मालिक कमाल अहमद व जहांगीर उर्फ गुड्डू के द्वारा निर्धारित मूल्य से लगभग डेढ़ गुना कीमत पर बेचे जाने के बावजूद भी काफी जमावड़ा बना रहता है, कमला पसंद एजेंसी के मालिक कमाल अहमद को किसी का डर नहीं है । बार बार काला बाजारी की खबर प्रकाशित किए जाने के बाद भी जिम्मेदारों के द्वारा कोई कार्यवाही नहीं करने से  कहीं तो दाल में काला  दिखाई दे रहा है। 

    जिससे लोगों के संक्रमित होने का खतरा बना रहता है । यह रोड सीतापुर लखनऊ हाइवे को जोड़ती है । जिससे हमेशा बड़ी गाड़ियों का आना जाना लगा रहता है । चाहे मेन रोड हो या सम्पर्क मार्ग सभी पर आप को भीड़ देखने को मिलेगी । हरगाँव की बैंको में भीड़ इस तरह से लगी रहती है जैसे कि मेला लगा हो । इसकी सुध लेने वाला कोई नहीं वहीं सीतापुर के जुम्मेदार प्रशासनिक अधिकारी भी मौन हैं और वह किसी बड़ी घटना घटित होने का इंतजार कर रहे हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ