Subscribe Us

जनता से मोटी फीस वसूलने वालों के शटर हुए बन्द तो डॉ अजीत सिंह बने गरीबों का सहारा

कारोना काल में बिना फीस लिए मरीजों का कर रहे हैं उपचार

योगेश कुमार

पलिया कलां। कोरोना महामारी फैलने के साथ जिस तरह से प्राइवेट चिकित्सकों द्वारा अपने आलीशान अस्पताल, क्लीनिक को बन्द कर खुद को अंडरग्राउंड कर लिया गया वह कहीं न कहीं इस महामारी में गरीब जनता की मुश्किलों को बढ़ाने वाला रहा। मोटी फीस वसूलकर हजारों की महंगी दवा लिखते चले आ रहे चिकित्सकों के पास इस कोरोना काल में इलाज के रूप में जनता की सेवा का सुनहरा मौका था लेकिन ठीक उसी समय उन्होंने गरीबों के लिए अपने दरवाजे बन्द करके उनको बेसहारा छोड़ दिया। ऐसे में गरीबों के मसीहा और वास्तव में धरती के भगवान बनकर सामने आए सरकारी अस्पताल के चिकित्सक डॉ अजीत सिंह, उन्होंने अस्पताल में सेवा देना तो जारी ही रखा इसके साथ अपने आवास पर भी आने वाले मरीजों को हर संभव मदद और चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराई। इतना ही नहीं उन्होंने कोरोना के पेशेंट को भी देखा और ससमय उचित प्रमार्श देकर उनकी जान बचाने का काम किया। ऐसे में कहना गलत न होगा कि डॉ अजीत सिंह पलिया वासियों के लिए इस कोराना काल में मसीहा और धरती के भगवान बनकर उभरे है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ