Subscribe Us

लॉकडाउन में चोरी छिपे चल रहा था हुक्का बार, पुलिस ने छापा मारकर 16 लोगो को किया गिरफ्तार

रात 1 बजे हुक्का बार पर हजरतगंज पुलिस की छापेमारी

राजभवन के सामने चोरी छिपे चल रहा था एम्परर कैफे हुक्का बार

पुलिस ने हुक्का पीते 16 आरोपियों को किया गिरफ्तार 

भारी मात्रा में हुक्के, फ्लेवर,और लग्जरी कारें बरामद

जावेद शाकिब

   लखनऊ। यूपी की राजधानी लखनऊ में राजभवन के पास एम्परर कैफे पर देर रात हज़रतगंज पुलिस ने छापेमारी की। यहां लॉकडाउन में भी हुक्काबार चल रहा था। पुलिस ने हुक्का पीते 16 आरोपियों को गिरफ्तार किया कर यहां से भारी मात्रा में हुक्के, फ्लेवर और कैफे के बाहर से लग्जरी कारें सीज की हैं।

आपको बता दे कि अन्य शहरों के बाद अब लखनऊ में भी शराब की दुकानें खुल गईं। बुधवार देर शाम आदेश जारी हुआ था कि गुरुवार सुबह 10 बजे से शाम सात बजे तक सभी शराब की दुकानें खोली जाएंगी। दुकानें खुलने से पहले ही वहां लोगों की भीड़ जुट गई। अधिकांश दुकानों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हुआ। जिला आबकारी अधिकारी सुशील मिश्रा ने बताया कि कैंटीन, बार आदि का संचालन नहीं होगा। सिर्फ रिटेल और थोक दुकानों से शराब की बिक्री की जाएगी। 


शराब की दुकान खोलने का व्यापारियों ने किया विरोध 

सामाजिक उद्योग व्यापार मंडल ने कोरोना कर्फ्यू के दौरान सरकार द्वारा शराब की दुकानें खोलने की अनुमति देने का विरोध किया है। संगठन के अध्यक्ष रामबाबू रस्तोगी ने कहा कि कोरोना संक्रमण की चपेट में आने से सैकड़ों लोग जान गवां चुके हैं। अस्पतालों में बेड, ऑक्सीजन, दवाइयां नहीं मिल रही हैं। उन्होंने कहा कि सरकार लगातार सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील कर रही है। वहीं शराब की दुकानों को खोलने का आदेश देकर सरकार ने प्रदेश के नागरिकों की जान के साथ खिलवाड़ किया है। उन्होंने कहा कि अगर शराब की दुकान खुलती है तो आम व्यापारी भी अपने प्रतिष्ठान को खोलेगा। क्योंकि छोटे वर्ग के व्यापारििस्यों का प्रतिष्ठान निरंतर कई दिनों से बंद है। जिसकी वजह से उनके परिवार का जीविकोपार्जन नहीं चल पा रहा है। 

फर्नीचर ट्रेडर्स एसोसिएशन ने भी शराब की दुकान खोलने के आदेश का किया विरोध

उत्तर प्रदेश फर्नीचर ट्रेडर्स एसोसिएशन ने भी शराब की दुकान खोलने के आदेश का विरोध किया है। संगठन के अध्यक्ष इकबाल हसन ने बताया कि सरकार के आदेश के दो सप्ताह पहले व्यापारियों ने स्वेच्छिक बंदी कर दी थी। इससे काफी नुकसान हुआ। वहीं शराब की दुकान खोलने के आदेश व्यापारी समाज के साथ धोखा है। व्यापारी नेता शौकत अली ने बताया कि सरकार अपने खजाने की चिंता कर रही है, लेकिन तमाम ऐसे छोटे व्यापारी हैं, जिनको रोजमर्रा की जिंदगी जीने के लिए जद्दोजहद करना पड़ता है। उनका व्यापार ठप हो गया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ