-->
सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी का कोविड वार्ड खुद बीमार, संक्रमण फैलने का खतरा

सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी का कोविड वार्ड खुद बीमार, संक्रमण फैलने का खतरा

जगह जगह गंदगी के ढेर,  5 दिन में मिल रही है कोविड रिपोर्ट, दो हजार रिपोर्ट पेंडिंग 

सुघर सिंह 

इटावा। सैफई मेडीकल यूनिवर्सिटी का कोविड वार्ड खुद बीमार है वार्ड के बाहर जगह-जगह दस्ताने, मास्क, पीपीई, एप्रोन, बिल्डिंग में चारों तरफ बिखरे पड़े हुए हैं बीते 4 दिनों से कोविड वार्ड की सफाई नही हुई है कर्मचारी व सफाई कर्मी भयभीत है और डर से कोई भी सफाई कर्मचारी कोविड वार्ड में सफाई करने नहीं पहुंचा है वार्ड में व आसपास तक जाने से सभी कतरा रहे हैं। यही कारण है कि लिफ्ट में व बिल्डिंग में जगह जगह कोविड वार्ड से निकली हुई गंदगी पड़ी हुई ही इनसे संक्रमण फैलने का खतरा है। 

वही कोविड जांच का भी कार्य बहुत धीमा चल रहा है जांच मिलने में चार से पांच दिन का समय लग रहा है वहीं जानकार सूत्र बताते हैं कि 2 दिन में व्यवस्थाएं सही हो जाएंगी।  जांच करने वाली नई पीसीआर मशीनें जल्द ही आ जायेगी इससे लोड कम हो जाएगा और 24 घण्टे में रिपोर्ट दे दी जाएगी। 

पिछले वर्ष हकोरोना काल में मरीजों की दिक्कतों का मेडिकल यूनिवर्सिटी के कुलपति पर कोई असर नहीं रहा और अगर पिछले साल इस बीमारी को गंभीरता से लिया गया होता और मेडिकल यूनिवर्सिटी ने नई मशीनें खरीदी होती तो यह दिक्कत का सामना नहीं करना पड़ता सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी ने मरीजो को नही करना पड़ता  पिछले वर्ष भी 48 से 72 घंटे में कोरोना रिपोर्ट दी जा रही थी  लेकिन इस बार यही रिपोर्ट देने में 4 से 5 दिन का समय लग रहा है मेडिकल यूनिवर्सिटी अब अपनी नींद से जाग रही है और नई पांच पीसीआर मशीनों का ऑर्डर कर दिया है बीते हफ्ते लगभग पांच हजार कोरोना जांच रिपोर्ट पेंडिंग चल रही थी  जो आज घटकर दो हजार  पहुंच गए हैं । 

जानकार सूत्र बताते हैं के कुलपति सिर्फ हस्ताक्षर करके ऑर्डर देकर फाइल आगे बढ़ा देते है और अपनी जिम्मेदारी को खत्म कर लेते है यही कारण है कि मामला ढिलाई  में पड़ा रहता है सूत्र बताते हैं के अगले हफ्ते से कोरोना की जांच रिपोर्ट 24 घंटे में प्राप्त होने लगेगी। 

कोरोना वार्ड  चार दिन से सफाई न होने से संक्रमण फैलने का खतरा है यहां लिफ्ट व बिल्डिंग में चारो तरफ पीपीई किट, दस्ताने, मास्क, पानी की बोतलें, एप्रोन, व अन्य सामान जो कोविड वार्ड में प्रयोग हुआ है वो जगह जगह पड़ा हुआ है और इधर से उधर उड़ रहा है इससे संक्रमण फैलने का खतरा है।

इस सम्बंध में जब कुलपति डॉक्टर राजकुमार व कोविड वार्ड के डॉक्टर कमल पंत को फ़ोन किया गया तो कई बार फोन करने के बाद दोनो ने फ़ोन नही उठाया। उसके बाद कुल सचिव सुरेश चंद्र शर्मा को फोन किया गया तो उन्होंने बताया कि मामला संज्ञान ने आया है सफाई कराकर दोषियों पर कार्यवाही की जाएगी।

0 Response to "सैफई मेडिकल यूनिवर्सिटी का कोविड वार्ड खुद बीमार, संक्रमण फैलने का खतरा "

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4