Subscribe Us

पंचायत चुनाव में रूठो को मनाने में जुटे मुलायम परिवार के युवराज आर्यन यादव

मतदाताओ से अपील अंशुल भैया  को फिर से जिला पंचायत की कुर्सी पर काबिज कराओ : आर्यन यादव 

इटावा। समाजवादी पार्टी के संरक्षक व पूर्व रक्षा मंत्री व उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के एक और भतीजे की पंचायत चुनाव में चहल कदमी से राजनैतिक हलकों में हलचल पैदा कर दी है मुलायम के छोटे भाई राजपाल यादव के छोटे बेटे आर्यन यादव हाल ही में ऑस्ट्रेलिया से पढ़ाई करके अपने गृह जनपद इटावा लौटे हैं उन्होंने अपने बड़े भाई निवर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष अभिषेक उर्फ अंशुल यादव के चुनाव की कमान संभाल ली है।

  मुलायम सिंह यादव के भाई राजपाल यादव की पत्नी प्रेमलता यादव भी दो बार इटावा से जिला पंचायत अध्यक्ष रह चुके हैं उनके बेटे अभिषेक यादव उर्फ अंशुल की जब राजनीति में एंट्री हुई थी तो प्रेमलता ने अपने बेटे के लिए सीट छोड़ दी थी अंशुल यादव लगातार दो बार जिला पंचायत अध्यक्ष निर्वाचित हुए हैं एक बार फिर सपा से इस पद के लिए दावेदार है जिला पंचायत कि यहां 24 सीटें हैं इन सीटों पर उम्मीदवारों को लड़ाना और अध्यक्ष पद की रणनीति बनाने में इस बार अंशुल यादव ने आर्यन यादव को जिम्मेदारी सौंपी है आर्यन की प्रारंभिक शिक्षा इटावा जिले से शुरू हुई है इसके बाद 7 से 12 तक की पढ़ाई उन्होंने डीपीएस नोएडा से की।  कुछ समय तक दिल्ली यूनिवर्सिटी में बीकॉम ऑनर्स की पढ़ाई की।  पढ़ाई में उनका मन नहीं लगा तो बीएससी इन बिजनेस करने के लिए कार्डिफ यूनिवर्सिटी यूके चले गए वर्ष 2015 में 2018 तक की पढ़ाई इंग्लैंड में पूरी की।  इसके बाद 2019 में ऑस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी ऑफ सिडनी से मास्टर ऑफ कॉमर्स की डिग्री हासिल की। इसी यूनिवर्सिटी में समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री व आर्यन यादव के चचेरे भाई अखिलेश यादव भी पढ़ाई कर चुके हैं आर्यन ने अपने बड़े भाई की मदद के लिए पंचायत चुनाव की कमान अपने हाथ में ली है। आर्यन का गांव - गांव घर - घर  जाना और और बड़े बुजुर्गों से पैर छूकर आशीर्वाद लेना, और बुजुर्गों द्वारा आर्यन को दुलार देना, कही न कहीं अमिट छाप छोड़ रहा है। आर्यन यादव बुजुर्गो से गांव की भाषा मे बातचीत करके वोट मांग रहे है उनकी बोलचाल देखकर हर कोई अवाक रह जाता है कि क्या यह वही युवा है जो दो साल विदेश से पढ़ाई करके लौटा है। 

   जैसा कि सभी जानते है कि निजी कामो को लेकर हर गांव में दो चार लोगों की अपने नेताओं से शिकवा शिकायत रहती है तो आर्यन यादव ऐसे मतदाताओ के घर जरूर संपर्क कर रहे है उनका कहना है कि जो भी गुस्सा निकालना है हम पर निकाल लो लेकिन 19 तारीख को एकजुट होकर सपा प्रत्याशियों के लिए वोट करो और अंशुल भैया को पुनः जिला पंचायत अध्यक्ष बनाओ उन्होंने कहा कि हर रूठे कार्यकर्ता को मनाना भी हम सबकी जिम्मेदारी है। आर्यन यादव गाँव गाँव सम्पर्क बैठक करके जहां मतदाताओं से वोट माँग रहे है वही लोगों को मतदान के लिए जागरुक भी कर रहे है। 

   पंचायत चुनावों में उनकी सक्रियता देख कयास लग रहे हैं कि आर्यन जल्दी सक्रिय राजनीति में एंट्री कर सकते हैं हालांकि आर्यन यादव का कहना है कि वह अपने बड़े भाई अंशुल यादव और युवाओं के लगातार कहने पर पंचायत चुनाव में सक्रिय हैं मेरा इरादा राजनीति में आने का नहीं है मैं बिजनेस की पढ़ाई कर चुका हूं इसी क्षेत्र में अपना कैरियर बनाऊंगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ