-->
सिविल हॉस्पिटल में मुख्य सचिव ने लगवाई सपत्नीक वैक्सिन की पहली डोज

सिविल हॉस्पिटल में मुख्य सचिव ने लगवाई सपत्नीक वैक्सिन की पहली डोज

मुख्य सचिव की अपील, 45 वर्ष की आयु पार कर चुके लोग अवश्य लगवाएं वैक्सीन

सचिन कुमार श्रीवास्तव

लखनऊ। मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने डाॅ0 श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिविल हाॅस्पीटल में जाकर सपत्नीक कोविड वैक्सीन की पहली डोज ली। इस अवसर पर उन्होंने प्रदेश की जनता से अपील की कि सभी लोग जो भी 45 साल के ऊपर हैं, वैक्सीन लगवायें, जल्दी से जल्दी लगवायें, ताकि कोरोना की लड़ाई में हम सब मिलजुलकर इसको हरा सकें। उन्होंने कहा कि इतने बड़े व्यापक पैमाने पर यह विश्व का सबसे बड़ा वैक्सीनेशन प्रोग्राम है और भारतवर्ष में जितनी तेजी से वैक्सीन लगवायी जा रही है उन्हें विश्वास है कि इससे कोरोना की लड़ाई में हम बहुत जल्दी पूरी तरह कामयाब होंगे। 

लोगों के सावधानी न बरतने से बढ़े covid 19 के केस

उन्होंने कहा कि जो अभी मामले बढ़ें हैं उसका एक कारण यह हो सकता है कि जब केसेस बहुत कम हो गये थे, तो लोगों को लगा था कि कोरोना समाप्त होने की तरफ है और लोगों ने थोड़ी सावधानी बरतनी कम कर दी थी। अभी कोरोना के जैसे मामले बढ़ रहे हैं, कोरोना अभी भी पूरी तरह से है और जब तक वैक्सीनेशन का प्रोग्राम हमारा पूरी तरह समाप्त नहीं होता है, उसके बाद भी हमें पूरी सावधानी बरतनी पड़ेगी, मास्क को पहने, सोशल डिस्टेंसिंग रखें और हाथ बराबर धोते रहें। इन बातों पर जरूर ध्यान दें और अगर ध्यान देंगे तो कोरोना पर विजय प्राप्त करने में अवश्य सफल होंगे। 

प्रतिदिन की जा रही 1.5 लाख टेस्टिंग 

उन्होंने बताया कि वैक्सीन लगवाने में न कोई दर्द हुआ है, बिल्कुल सामान्य अनुभव है। कहीं कोई कठिनाई नहीं है और यहां व्यवस्था बहुत अच्छी है। कोरोना को नियंत्रण करने के लिये पिछले एक वर्ष से मुख्यमंत्री के नेतृत्व में, उनके मार्गदर्शन में पूरे प्रदेश की टीम दिन रात लगी हुई है और हमारा जोर इस बात पर है कि पूरी सावधानियां बरती जाये, चाहे मास्क पहनने को लेकर हो चाहे सोशल डिस्टेसिंग बनाने को हो, हाथ धोने को हो, सफाई से रहने को लेकर हो। फिर से करीब डेढ़ लाख टेस्टिंग प्रतिदिन किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री के निर्देश हैं कि लगातार टेस्टिंग की संख्या में बढ़ोत्तरी की जाये। सार्वजनिक स्थानों, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, हवाई अड्डे आदि में भी जो लोग दूसरे राज्यों से आ रहे हैं, जहां केसेज ज्यादा हैं, उनकी विशेष जांच की जाये। अब प्रदेश में निगरानी समितियां दोबारा पूरी तरह सक्रिय कर दी गई है। कमाण्ड कण्ट्रोल सेण्टर के माध्यम से जितने भी पाॅजिटिव केसेज हैं, उनकी निरन्तर निगरानी की जा रही है। सभी अस्पतालों में फिर से जो बेड हमने बढ़ाये थे, पहले 1.5 लाख बेड तक किये थे, इसके अलावा लेवल-2, लेवल-3 के अस्पतालों को फिर से हमने तैयार किया है और प्रदेश सरकार कोरोना का मुकाबला पूरी तरह करने और इसको परास्त करने के लिये पूरी तरह तत्पर है। 

उन्होंने कहा कि जो लोग लापरवाही कर रहे हैं, उनसे पुनः अपील करना चाहूंगा कि जो भी कोविड पर नियंत्रण पाने के लिये जो भी अपेक्षित व्यवहार है उस व्यवहार को जरूर अमल में लायें। अगर वह इसका पालन नहीं करते हैं तो इनफोर्समेंट भी किया जायेगा और कड़ाई भी की जायेगी और जो भी पेनाल्टी और जो भी अर्थदण्ड लगाने का प्राविधान है उसे भी लागू किया जायेगा। 

हर जगह बनाये गए वैक्सीनेशन सेंटर

उन्होंने कहा कि अब हमारा लक्ष्य बढ़ गया है क्योंकि 45 वर्ष से ऊपर के अब सभी व्यक्तियों को वैक्सीन लगायी जानी है, इसके लिये वैक्सीनेशन सेण्टर भी बढ़ाये गये हैं। वैक्सीन की उपलब्धता निरन्तर बढ़ायी जा रही है और टीमें भी बढ़ायी गई है। इससे पूर्व मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी एवं उनकी धर्म पत्नी डाॅ0 अर्चना तिवारी ने वैक्सीनेशन बूथ पर कोविड वैक्सीन की पहली डोज ली।

इस अवसर पर महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सहित चिकित्सालय के अधिकारीगण, वरिष्ठ चिकित्सकगण आदि उपस्थित थे।

0 Response to "सिविल हॉस्पिटल में मुख्य सचिव ने लगवाई सपत्नीक वैक्सिन की पहली डोज"

टिप्पणी पोस्ट करें

Ad

ad 2

ad3

ad4